आने वाला है बरसात का मौसम, दिखेगा धरती पर आपको यह खास नजारा

आने वाला है बरसात का मौसम, दिखेगा धरती पर आपको यह खास नजारा

raktim tiwari | Publish: May, 18 2018 07:22:00 AM (IST) Ajmer, Rajasthan, India

इसके लिए अजमेर, ब्यावर, खरवा, पुष्कर और अन्य नर्सरी में पौधे तैयार कराए जा रहे हैं।

अजमेर

वन विभाग मानसून सक्रिय होते ही जिले में पौधरोपण शुरू करेगा। जिले की नर्सरियों में पौधे तैयार होने जारी हैं। जून अंत या जुलाई में बरसात शुरू होने पर वन क्षेत्रों में पौधे लगाए जाएंगे।

वन विभाग मानसून के दौरान अजमेर सहित किशनगढ़, ब्यावर, केकड़ी, पुष्कर, किशनगढ़ और अन्य वन क्षेत्रों में पौधरोपण कराता है। इसके लिए अजमेर, ब्यावर, खरवा, पुष्कर और अन्य नर्सरी में पौधे तैयार कराए जा रहे हैं। पौधों में नीम, गुड़हल, बोगन वेलिया, अशोक, करंज और अन्य प्रजातियां शामिल हैं।

बरसात के बाद पानी का संकट
विभाग विभिन्न स्वयं सेवी संस्थाओं, स्कूल, कॉलेज, स्काउट-गाइड, राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवकों की सहायता से जिले में पौधरोपण कराता है। बरसात होने तक पौधों को पानी मिल जाता है। मानसून के खत्म होते ही पौधे सूखना शुरू हो जाते हैं। करीब 50 प्रतिशत पौधे पानी के अभाव में दम तोड़ देते हैं। वर्ष 2015 में तो विभाग को कम बरसात के चलते पौधरोपण रोकना पड़ा था।

तारागढ़ पर नहीं होता पौधरोपण

विभाग बीते 23 साल से तारागढ़ पर पौधरोपण नहीं करा रहा है। अधिकारियों की मानें तो यह क्षेत्र काफी हरा-भरा है। जबकि यहां तारागढ़ जाने वाले मार्ग, हैप्पी वैली और कई हिस्से ऐसे हैं जहां पौधरोपण किया जा सकता है। मालूम हो कि विभाग 50 साल में विभिन्न योजनाओं में पौधरोपण करा रहा है। इनमें वानिकी परियोजना, नाबार्ड और अन्य योजनाएं शामिल हैं। इस दौरान करीब 30 से 40 लाख पौधे लगाए गए। पानी की कमी और सार-संभाल के अभाव में करीब 20 लाख पौधे तो सूखकर नष्ट हो गए। कई पौधे अतिक्रमण की भेंट चढ़ गए।

मानसून में ही क्यों पौधरोपण...
मानसून में पौधरोपण कराने की खास वजह भी है। एक तो बरसात के दौरान छोट-बड़े पौधों को जमीन में लगाना आसान होता है। जमीन में नमी होने से जल्दी जड़ पकड़ लेते हैं। दूसरी ओर बरसात के तीन महीने के दौरान पौधों को जरूरत के मुताबिक पानी मिल जाता है। इससे ये आसानी से फल-फूल जाते हैं। मानसून के दौरान जुलाई से सितम्बर तक जिले में 550 मिलीमीटर बारिश मानी जाती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned