अजमेर, नागौर व पाली जिले से चुराई 11  बाइकें बरामद, तीन आरोपियों को पीसांगन पुलिस ने दबोचा

अदालत ने तीन आरोपियों को जेल व एक नाबालिग को बाल सुधार गृह भेजा, चोर गिरोह को दबोचने में पीसांगन पुलिस की विशेष भूमिका रही,पीसांगन पुलिस को युवकों की संदिग्ध गतिविधियां देख आशंका हुई जो बाद में सही न साबित हुई।

By: suresh bharti

Updated: 23 Oct 2020, 01:04 AM IST

अजमेर/पीसांगन. अपराध करने की कोई उम्र नहीं होती। कोई मजबूरी में चोरी करता है तो कुछ शौक पूरे करने के लिए अपराध की दुनिया में कदम रख देता है। पीसांगन पुलिस ने बाइक चोर गिरोह में शामिल एक किशोर को भी पकड़ा है। उसकी यह उम्र पढ़ाई, खाने-पीने व मौजमस्ती की है,लेकिन चोरी की लत लग गई। आखिर वह चोर गिरोह के साथ पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

पीसांगन थाना पुलिस ने बाइक चोर गिरोह का पर्दाफाश करते हुए तीन जिलों से चुराई 11 मोटरसाइकिलें बरामद की है। इसमें एक नाबालिग सहित चार जने शामिल हैं।

नाबालिग को किशोर न्याय बोर्ड, अजमेर के समक्ष पेश किया गया। यहां से उसे बाल सुधार गृह भिजवाया गया। पाली जिले के कुड़की निवासी अन्य तीन आरोपियों को पुष्कर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उन्हें जेल भेजने के आदेश दिए।

पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो उगली सच्चाई

थानाधिकारी प्रीति रत्नू ने बताया कि गश्त के दौरान थाना क्षेत्र में बिना नंबर की मोटरसाइकिल पर चार जने मिले। इन्होंने पुलिस को देख भागने का प्रयास किया। गतिविधियां संदिग्ध नजर आने पर उनसे पूछताछ की गई तो वह कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। पुलिस ने थाने लाकर पूछताछ की तो उन्होंने बाइक चोरी करना स्वीकार किया। इस पर पुलिस ने आरोपितों से उनकी निशानदेही पर बाइकें बरामद की।

थानाधिकारी प्रीति रत्नू ने बताया कि पाली जिलांतर्गत रास थाना क्षेत्र के कुड़की गांव निवासी खेमाराम रेगर, मनोहरसिंह उर्फ मन्नू व कालूराम बावरी को गिरफ्तार किया है। आरोपितों ने रिमांड के दौरान पीसांगन के अलावा पाली जिले के रास थाना क्षेत्र व नागौर जिले के थांवला व पादूखुर्द थाना क्षेत्र में 11 वारदातों को अंजाम देने की बात कबूली है।

आरोपितों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह पहले औने-पौने दामों में दुर्घनाग्रस्त बाइक खरीदते थे। इसके बाद रेकी कर वह बाइक चोरी करने में जुट गए। इसके बाद चुराई बाइक की नंबर प्लेट, इंजन नंबर व चैसिस नंबर को खुर्द-बुर्द कर दुर्घनाग्रस्त बाइक की नंबर प्लेट, इंजन नंबर व चैसिस नंबर चुराई बाइक पर लगाते थे। दुर्घनाग्रस्त बाइक को इस तरह खुर्द-बुर्द करने के बाद चुराई बाइक को पूर्व में दुर्घटनाग्रस्त हुई बाइक के स्थान पर इस्तेमाल कर बेच देते थे।
पुलिस टीम में यह रहे शामिल

बाइक चोरी के आरोपितों को पकडऩे वाली टीम में थानाधिकारी प्रीति रत्नू के अलावा हैड कांस्टेबल भंवरसिंह, प्रभुराम नेहरा, आसूचना अधिकारी कुशाल पचार, कांस्टेबल शोभाराम जाखड़, भंवरलाल ज्याणी, राजेंद्र चौधरी, सुखदेव रियाड़, छोटूराम जाखड़, जसराज व मुकेश ओलण शामि रहे।

बाइक चोर गिरोह के चार आरोपी गिरफ्तार,11 मोटरसाइकिलें जब्त

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned