क्राइम ब्रांच एसपी के नाम से लाखों की ठगी, आरोपित को पुलिस ने दबोचा,पूछताछ में कबूली कई वारदातें

आरोपी कोटा के जनकपुरी निवासी शिवा उर्फ गुड्डू छीपा है, विधायक चंद्रकांत से भी हड़प चुका 2 लाख रुपए, दसवीं वारदात में पकड़ा गया शातिर आरोपित

By: suresh bharti

Updated: 03 Apr 2021, 01:07 AM IST

अजमेर/मदनगंज-किशनगढ़. शातिर बदमाश चाहे कितनी ही चालाकी बरते। आखिर वह कानून से बच नहीं सकता। उसे पुलिस के हत्थे चढऩा ही पड़ता है। नई दिल्ली क्राइम ब्रांच के एसपी राजवीर सिंह के नाम से उद्यमियों और व्यापारियों समेत कई लोगों को फोन से डरा धमका कर लाखों रुपए की ठगी करने का आरोपित आखिर गांधीनगर थाना पुलिस की गिरफ्त में आ गया।

पुलिस ने आरोपी कोटा के जनकपुरी निवासी शिवा उर्फ गुड्डू छीपा (28) को गिरफ्तार कर लिया। शुक्रवार को अदालत में पेश करने पर उसे पूछताछ के लिए दो दिन के पुलिस रिमांड पर सौंपा गया है। पुलिस अधीक्षक जगदीशचंद्र शर्मा ने बताया कि परिवादी टूंकड़ा रोड स्थित तेजा मार्बल फैक्ट्री के मालिक पाबूराम जाट ने गांधीनगर थाने में 2 मार्च को रिपोर्ट दर्ज कराकर बताया कि एक व्यक्ति क्राइम ब्रांच एसपी राजवीर सिंह के नाम से फोन कर पैसों की मांग कर रहा है। रिपोर्ट के आधार पर मामला दर्ज कर टीम गठित की गई। टीम ने आरोपी के मोबाइल नम्बर से लोकेशन ट्रेस कर उसे गिरफ्तार कर लिया।

आरोपी ने कबूली वारदातें

-आरोपी ने वर्ष 2016 में तत्कालीन रामगंज मंडी की विधायक चन्द्रकान्ता को धमकी देकर कहा कि मैं क्राइम ब्रांच से एसपी राजवीर सिंह बोल रहा हूं। किसी बहाने आरोपी ने विधायक से 2 लाख रुपए हड़प लिए थे।

- गोरखपुर में किशन कुमार नाम के व्यक्ति से एसपी राजवीर सिंह बनकर दो लाख रुपए की मांग की और उससे एक-एक लाख रुपए दो बार लिए थे।

- लखनऊ में 12 लाख का भुगतान था और यह गुजरात के मोरवी का मामला था। एसपी राजवीर सिंह बन कर फोन पर धमकी दी, हालांकि उसकी स्थिति नहीं होने की वजह से भुगतान नहीं किया गया।

- कानपुर में जिग्नेश के दोस्त के डेढ़ लाख के पेमेंट था। एसपी राजवीर सिंह बनकर फोन किया और उसने 4 दिन बाद भुगतान दे दिया।

-आगरा में निविश बंसल पार्टी थी। इसमें 40 लाख रुपए थे। इसमें से 30 लाख दे चुका था, 10 लाख में से 6 लाख देने की बात कर ली थी।

- महाराष्ट्र में कमलेश से बात की। वह भी 40 लाख का मामला था। उसको भी एसपी राजवीर सिंह बनकर बात की थी उसने आधे पैसों में समझौता करने की बात की थी, लेकिन फिर अपना मोबाइल बंद कर लिया।

- नयापुरा थाने में थानेदार को क्राइम ब्रांच के मुकदमे का रिकॉर्ड मांगने के लिए फोन किया था।

कई मामले दर्ज तथा विचाराधीन

खुद को क्राइम ब्रांच का एसपी राजवीर सिंह बता कर लाखों रुपए की ठगी करने के आरोपी शिवा के खिलाफ कई मामले दर्ज हैं। कुछेक प्रकरण में निचली अदालत से सजा भी मिल चुकी है।

- वर्ष 2013 : धोखाधड़ी, विज्ञान नगर, कोर्ट में विचाराधीन

- वर्ष 2013 : धोखाधड़ी, विज्ञान नगर, कोर्ट में विचाराधीन

-वर्ष 2014 : धोखाधड़ी, विज्ञान नगर, कोर्ट में विचाराधीन।

- वर्ष 2015 : धोखाधड़ी, दादाबाडी, 23 अप्रेल 2016 को 2 वर्ष की सजा

- वर्ष 2015 : धोखाधड़ी, जवाहरनगर, 25 जून 2016 को सजा से दंडित

- वर्ष 2016 : आयुध अधिनियम, रेलवे कॉलोनी, 22 नवम्बर 2019 को सजा

- वर्ष 2017 : आयुध अधिनियम, भीमगंज मंडी, 15 दिसम्बर 2017 को 10 माह 3 दिवस का कारावास

- वर्ष 2018 : जानलेवा हमला, बिजौलिया, कोर्ट में विचाराधीन

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned