Govt order: कॉलेज में कितना स्टाफ, किन ब्रांच में हुए कम एडमिशन..

बीटीयू के संघठक कॉलेज बनेंगे दोनों कॉलेज। तकनीकी शिक्षा विभाग ने मांगी सूचना।

By: raktim tiwari

Published: 19 Apr 2021, 09:27 AM IST

अजमेर. बड़ल्या इंजीनियरिंग और महिला इंजीनियरिंग कॉलेज माखुपुरा को बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय का संघठक कॉलेज बनाया जाएगा। इसको लेकर तकनीकी शिक्षा विभाग ने कॉलेज में स्टाफ, सम्पत्ति और तीन साल में कम प्रवेश वाली ब्रांच का ब्यौरा मांगा है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने 4 मार्च को बजट अभिभाषण में अजमेर के बड़ल्या इंजीनियरिंग और महिला इंजीनियरिंग कॉलेज माखुपुरा को बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय का संघठक कॉलेज बनाने की घोषणा की थी। इसके अलावा अन्य कॉलेज को भी आरटीयू और अन्य विश्वविद्यालयों से जोडऩा प्रस्तावित है। लिहाजा तकनीकी शिक्षा विभाग ने सभी इंजीनियरिंग कॉलेज से शैक्षिक, प्रशासनिक पदों सहित कई सूचनाएं मांगी है। कॉलेज को 20 अप्रेल तक सूचनाएं भेजनी जरूरी हैं।

देनी होंगी यह सूचनाएं
-पिछले तीन साल में जिन ब्रांच में विद्यार्थियों का शून्य अथवा 30 प्रतिशत से कम प्रवेश हुआ है, उन्हें बंद करने का प्रस्ताव
-जिन ब्रांच को बंद किया जाना है, उनमें एआईसीटीई के अनुसार कॉलेज में शैक्षिक, अशैक्षिक कर्मचारियों को सरप्लस किया जाना
-कॉलेज की आय-व्यय और उत्तरदायित्व का वर्षवार ब्यौरा
-2019-20, 2020-21 और 2021-22 में प्रवेशित विद्यर्थियों का ब्रांचवार ब्यौरा और प्रवेश क्षमता
-कॉलेज में शैक्षिक, अशैक्षिक, नियमित, संविदा, प्लेसमेंट एजेंसी के तहत कार्यरत कार्मिकों का विवरण मय नियुक्ति तिथि और योग्यता
-प्रस्तावित ब्लॉक ग्रान्ट का विवरण

पहले भी मांगी थी सूचना
साल 2017 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने अजमेर, दौसा, बारां इंजीनियरिंग कॉलेज को सरकारी नियंत्रण में लेने का प्रस्ताव बना था। शैक्षिक और अशैक्षिक कार्मिकों का वेतनभार, वित्तीय स्थिति की सूचनाएं मांगी गई। लेकिन मामला कागजों में दब गया था। अब सीएम गहलोत ने इन कॉलेज को आरटीयू और बीटीयू के संघठक कॉलेज बनाने की घोषणा की है।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned