गुलाबबाड़ी आरओबी निर्माण के अवरोध साफ

नगर निगम ने तीन घंटे में तोड़ी 71 दुकानें, आरओबी निर्माण में आएगी तेजी
ओवरब्रिज बनने के बाद दुकानदारों को उसी के नीचे होगा फिर से आवंटन

By: himanshu dhawal

Published: 26 Jun 2020, 02:00 AM IST

अजमेर. गुलाबबाड़ी रेलवे फाटक के पास से नगर निगम के दस्ते ने गुरुवार को अतिक्रमण हटा दिए। निगम के अतिक्रण हटाओ दस्ते ने 3 घंटे में 71 दुकान और एक प्याऊ को ध्वस्त करने की कार्रवाई अंजाम दी। दुकानदारों को सात दिन पहले नोटिस देने के कारण इस क्षेत्र में कई दुकानदारों ने पहले ही दुकानें खाली कर दी थी। यहां से बेदखल किए गए दुकानदारों को आरओबी निर्माण के बाद इसी के नीचे दुकानें आवंटित की जाएंगी।

नगर निगम का अतिक्रमण हटाओ दस्ता गुरुवार को मय साजो-सामान गुलाबबाड़ी रेलवे फाटक पहुंचा। दस्ते में शामिल दो जेसीबी और नगर निगम के कर्मचारियों ने सुबह 9 बजे दुकानों को तोडऩा शुरू किया। यह कार्रवाई दोपहर 12 बजे तक जारी रही। इस दौरान एक दुकान पर कोर्ट का स्टे होने का कागज चिपका हुआ था। उस दुकान पर लगे ताले को पुलिस की मौजूदगी में नगर निगम के कर्मचारियों ने तोड़ दिया। दुकानकार ने अपने स्तर पर ही उसमें से सामान बाहर निकाल लिया। इसके बाद उस दुकान को भी तोड़ दिया गया। अतिक्रमण हटाने के दौरान मेयो कॉलेज की दीवार भी क्षतिग्रस्त हो गई। जेसीबी से दुकानों को तोड़े जाने के दौरान मेयो कॉलेज के गेट के पास दीवार भी टूट गई। उल्लेखनीय है कि आरओबी निर्माण में दुकानें बाधक बनने के कारण पिछले चार माह से काम बंद पड़ा था।

आरओबी के नीचे आवंटित होंगी दुकानें
गुलाबबाड़ी फाटक से राजा साइकिल चौराहे तक की 71 दुकानों सहित एक प्याऊ और दो मंदिर हैं। इसी साल जनवरी में संभागीय आयुक्त की सदारत में आयोजित बैठक में दुकानदारों को चार श्रेणियों में बांटकर आरओबी के नीचे आरएसआरडीसी की ओर से निर्मित दुकानों का आवंटन करने का निर्णय लिया गया था। निगम ने सात दिन पहले दुकानदारों को नोटिस दिया था। जिसकी मियाद खत्म होने के बाद गुरुवार को कार्रवाई की गई। आरओबी निर्माण के बाद दुकानों का आवंटन बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार होगा।

मंदिर के लिए जिला प्रशासन से लेंगे अनुमति
गुलाबबाड़ी फाटक से कुछ ही दूरी पर स्थित मंदिर सहित पुलिस चौकी के सामने स्थित दूसरा मंदिर भी आरओबी निर्माण में बाधक बन रहा है। निगम अधिकारियों ने बताया कि दोनों मंदिरों के लिए जिला प्रशासन के निर्देशानुसार कार्रवाई की जाएगी।

निगम ने नहीं माना चार दुकानों पर स्थगन

नगर निगम उपायुक्त रलावता ने बताया कि चार दुकानों पर कोर्ट का स्टे होने का पता चला। निगम प्रशासन ने स्टे में नगर निगम के पार्टी नहीं होने का हवाला देते हुए उन दुकानों को भी तोड़ दिया। इनमें से एक दुकानदार ने ताला लगा रखा था, जिसे पुलिस की मौजूदगी में तुड़वाया गया।

दो दिन से हटा रहे थे सामान

गुलाबबाड़ी फाटक के पास से पिछले दो दिन से दुकानदार दुकानें खाली करने में लगे हुए थे। यह क्रम गुरुवार सुबह तक जारी रहा। दुकानदार अपना सामान टेक्ट्ररों में भरकर ले गए।

इनकी मौजूदगी में चली जेसीबी

कार्रवाई में नगर निगम सचिव पवन मीणा, आरओ प्रकाश डूडी, कर निर्धारक पुरुषोत्तम पंवार, सीओ साउथ मुकेश कुमार सोनी और अलवर गेट सीआई मुकेश चौधरी सहित कई कर्मचारी और अधिकारी शामिल थे।

इनका कहना है...
नगर निगम ने सात दिन पहले 74 को नोटिस दिया था। इसमें एक मंदिर को छोडकऱ 71 दुकानें और एक प्याऊ को तोड़ दिया गया है। चार दुकानदारों के स्टे होने की बात सामने आई थी। लेकिन उन्होंने एडीए के खिलाफ स्टे ले रखा था। अतिक्रमण हटाने वाली एजेंसी नगर निगम है। उन्हें भी नोटिस दिया गया था। इसके बाद दुकानें तोड़ी हैं।

- गजेन्द्र सिंह रलावता

उपायुक्त, नगर निगम

himanshu dhawal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned