Happy Janmashtami: बृज में आनंद भयो, जय यशोदालाल की....


लोगों ने घरों में किया कान्हा का पूजन। कोरोना संक्रमण का दिखा असर।

By: raktim tiwari

Published: 13 Aug 2020, 07:32 AM IST

अजमेर.

यशोदा नंदन श्रीकृष्ण काजन्मोत्सव जन्माष्टमी पर्व शहर में परम्परानुसार मनाया गया। कोरोना संक्रमण का असर साफ नजर आया। मंदिरों में पुजारियों ने मंदिरों और घरों में शंख और घडिय़ाल बजाकर नंदलाल का जन्मोत्सव मनाया। घरों में लोगों ने पूजा-अर्चना कर व्रत-उपवास खोले। शहर के विभिन्न मंदिरों और सार्वजनिक स्थानों पर पुलिस मुस्तैद रही। सड़कों, मंदिरों में देर रात तक दिखने वाली रौनक और श्रद्धालुओं का सैलाब इस बार नजर नहीं आया।

ना विशेष सजावट, ना झांकियां
हर साल आजाद पार्क में नगर निगम मनमोहक झांकियां लगाता था। कोरोना संक्रमण के चलते इस बार झांकियां नहीं सजाई गई। श्रीकृष्ण को यमुना पार ले जाते वासुदेव, नंदगांव में माखन खाते कन्हैया, अंगुली पर गोवद्र्धन पर्वत उठाए श्रीकृष्ण, गोपियों संग रास रचाते गोविंद, फूलों संग होली, कालिया के फन पर नाचते नंदगोपाल और अन्य प्रसंगों से जुड़ी झांकियों के लिए लोग तरस गए। कोरोना संक्रमण के कारण आजाद पार्क में सतरंगी लाइटें और भव्य सजावट भी नहीं दिखी।

मंदिरों और घरों में गूंजे भजन
नाका मदार स्थित राधाकृष्ण चेरीटेबल ट्रस्ट की ओर से कृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया। पुष्कर रोड स्थित खत्रियों की बगीची में झांकी सजाई गई। हरिभाऊ उपाध्याय नगर (मुख्य) विस्तार समिति, सिद्धेश्वर महिला मंडल ने झांकी सजाई। गुलाबबाड़ी आम का तालाब स्थित गणेश मंदिर,सांई बाबा मंदिर में गुलाब, मोगरे के फूल, पान के पत्तों, दूब से सजावट की गई। श्री निम्बार्क गोपीजन वल्लभ मंदिर निम्बार्क कोट मंदिर में अशोक तोषनीवाल और अन्य ने भजन प्रस्तुत किए। इस दौरान रसिक बिहारी भजन और पदगायन हुआ। प्रेमप्रकाश आश्रम देहली गेट में श्रीकृष्ण भगवान की लीलाओं पर आधारित झांकियां सजाई गई।

कोरोना का भय, नहीं हुई प्रतियोगिताएं
कोरोना संक्रमण के चलते शहर में कृष्ण बनो प्रतियोगिताएं नहीं हुई। घरों में ही बच्चों ने राधा-कृष्ण के रूप धरे। राधा-कृष्ण, मटकी फोड़ बनो प्रतियोगिता नहीं हुई। घरों में नौनिहालों को मोर, मुकुट हार पहनाकर मोबाइल से फोटो खींचे गए। जन्माष्टमी पर्व पर बाजारों में भी रौनक नहीं हुई। कन्हैया की पोशाक, मुरली और अन्य सामग्री की बिक्री भी सीमित रही। बच्चों और बुजुर्गों की बाजारों और सार्वजनिक स्थानों पर उपस्थिति कम रही।

लगाया माखन-मिश्री का भोग
मंदिरों और घरों में रात्रि 12 बजे यशोदानंदन की जन्म आरती की गई। लोगों ने कान्हा के दर्शन कर व्रत-उपवास खोले। श्री सांवरिया सेठ मंडल पुरानी मंडी के तत्वावधान में अद्र्धचंदेश्वर महादेव और श्री सगाई वाले बालाजी शिवबाग मंदिर में पुजारियों ने पूजा-अर्चना की। पंचामृत स्नान, कान्हा के बधाई गीत, विशेष श्रृंगार, पंचामृत से स्नान एवं जन्म के बाद भोग लगाया गया। प्रेम प्रकाश आश्रम मार्ग वैशालीनगर स्थित झूलेलाल मंदिर, श्री निम्बार्कगोपीजन वल्लभ मंदिर निम्बार्क कोट मंदिर में महा-आरती कर प्रसाद वितरण किया गया।

दिखे मास्क और सेनेटाइजर
श्री राधा कृष्ण चेरिटेबल ट्रस्ट नाका मदार के तत्वावधान में कृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया। पुजारी विकल्प दाधीच की मौजूदगी में पूजन हुआ। श्रद्धालुओं को मास्क पहनने के बाद प्रवेश मिला। मंदिर में सेनेटाइजर की व्यवस्था की गई। राधा गोविंद धाम में लोगों ने बधाई गीत गाए। पुष्पों से फूल बंगला सजाया गया। श्री नगर रोड स्थित हालाणी दरबार में गोपाल सहस्र नाम का पाठ कर माखन मिश्री का भोग लगाया गया।

सोशल मीडिया पर बधाइयां...
लोगों ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का जमकर इस्तेमाल किया। जन्माष्टमी पर सुबह से देर रात तक बधाइयों का दौर चला। सोशल मीडिया पर कन्हैया के वीडियो, फोटो, बधाई संदेश का आदान-प्रदान किया गया। लोगों ने एकदूसरे को मोबाइल पर मथुरा, वृंदावन, बनारस और अन्य प्रसिद्ध मंदिरों की झांकियां, फोटो भेजे।

COVID-19 virus
raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned