Happy Rakhi: भैया की कलाई पर सजाई बहनों ने राखी

Happy Rakhi:  भैया की कलाई पर सजाई बहनों ने राखी

raktim tiwari | Publish: Aug, 15 2019 10:30:00 AM (IST) Ajmer, Ajmer, Rajasthan, India

कई जगह पुजारियों ने लोगों के घर जाकर रक्षासूत्र बांधा। रक्षाबंधन पर इस बार भद्रा नहीं होने सुबह से देर शाम तक राखी बंधवाने का सिलसिला चलेगा।

अजमेर. भाई-बहन के स्नेह का प्रतीक रक्षाबंधन पर्व (rakhi festival) गुरुवार को पारम्परिक तरीके से मनाने की शुरुआत हो गई। सुबह से बहनों ने भाइयों के तिलक लगाकर राखी बांधकर उनकी लम्बी उम्र की कामना की। भाइयों (sisters)ने अपनी बहन (sisters)को सार्मथ्य अनुसार उपहार और नकद राशि भेंट की। इस बार भी भद्रा नहीं होने से दिनभर राखी बांधने का शुभ मुर्हूत है। त्यौंहार पर बाजारों में भीड़ रही।

read more: Shiv Pujan: धूमधाम से निकली कावड़ यात्रा, मंत्रोच्चार से सहस्रधारा

रक्षाबंधन पर्व पर सुबह 6.15 बजे से ही बहनों ने भाइयों को तिलक कर, मिठाई (sweets) खिलाकर और श्रीफल (nariyal) देकर राखी (rakhi) बांधी। साथ ही भाइयों और खुशहाली की मंगल कामना की। भाइयों ने बहनों को उपहार और नकद राशि भेंट की। शहर के विभिन्न मंदिरों में भी भगवान श्रीकृष्ण (shri krishna), सिद्धि विनायक (ganesha), भगवान शिव-पार्वती (shiv parvati) के राखी बांधी गई। दोपहिया-चौपहिया वाहनों, व्यापारिक प्रतिष्ठानों पर भी रक्षासूत्र बांधा गया। कई जगह पुजारियों ने लोगों के घर जाकर रक्षासूत्र बांधा। रक्षाबंधन पर इस बार भद्रा नहीं होने सुबह से देर शाम तक राखी बंधवाने का सिलसिला चलेगा।

read more: Smart city - ajmer : एक लाख लोग नारकीय जीवन के ‘गुलाम’

बाजारों में हुई रौनक
नया बाजार, पुरानी मंडी, दरगाह बाजार मदार गेट, केसरगंज, रामगंज और अन्य इलाकों में बाजारों में रौनक (market)हो गई है। लोग फल (fruits), मिठाई (mithai), श्रीफल और अन्य सामग्री खरीदने में व्यस्त हैं। यह सिलसिला दिनभर चलेगा। केंद्रीय कारागार (central jail) में भी कैदियों को राखी (rakhi) बांधने का सिलसिला शुरू हो गया है। यहां भी बहनें जेल में कैद अपने भाईयों के लिए राखी लेकर पहुंची हैं। कड़ी सुरक्षा में उनके सामान की जांच कर राखी (rakhi) बंधवाने का दौर जारी है।

read more: High Security Jail-हार्डकोर बंदी ने मांगी फिरौती

मनाया श्रावणी उपाकर्म पर्व
आर्य समाज (arya samaj)अजमेर के तत्वावधान में श्रावणी उपाकर्म (sharavani upakarma )और पंडित जियालाल जयंती मनाई गई। सुबह 8 बजे मंत्रोच्चार से आचार्य अमर सिंह शास्त्री के ब्रह्मत्व में यज्ञ हुआ। प्रधान रासासिंह रावत, नवीन मिश्र, राधेश्याम शास्त्री के प्रवचन हुए। वक्तओं ने श्रावणी उपाकर्म की महत्ता और पंडित जियालाल की शिक्षाओं पर प्रकाश डाला। जागेश्वर प्रसाद निर्मल का कविता पाठ और बालक एवं बालिकाओं के भजन भी हुए।

read more: Smart City Ajmer : फिर कैसे बनेगी अपनी सिटी Smart

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned