अटके दिल्ली जाने वाले ट्रक, हाइवे पर कई किलोमीटर की कतार

भारी वाहनों के जमावड़े के कारण छोटे वाहन चालकों को निकलने में असुविधा का सामना करना पड़ रहाहै।

By: raktim tiwari

Published: 12 Nov 2017, 02:13 PM IST

ब्यावर। दिल्ली में स्मॉग का कहर दिखने के बाद राजस्थान पुलिस की ओर से दिल्ली जाने वाले भारी वाहनों पर लगाई गई रोक का असर अब दिखने लगा है। रविवार को सुबह से ही हाईवे पर जाम सी स्थिति है। दिल्ली की ओर जाने वाले ट्रेलर, डम्पर, ट्रक सहित अन्य भारी वाहनों की रेलमपेल हाईवे पर लगी हुई है। हाईवे के दोनों ओर भारी वाहनों के जमावड़े के कारण छोटे वाहन चालकों को निकलने में असुविधा का सामना करना पड़ रहाहै।

यहां वाहनों के खड़े होने की कोई निश्चित जगह नहीं होने से जिस भारी वाहन चालक की जहां मर्जी हुई वहीं पर वाहन पार्क हो गया। सबसे अधिक डम्पर व ट्रेलर चालकों ने अपने वाहनों को ट्रांसपोर्टर की दुकानों के सामने ही पार्क कर दिए हैं। इससे उनके वाहन की सुरक्षा बनी हुई है। अधिकांश टे्रलर में सामान भरा हुआ है। हाइवे पर सूनसान में खड़े कर दिए जाने से सामान के चोरी होने का अंदेशा है।

इसी कारण भारी वाहनों के चालकों ने अपने वाहन सदर थाने के आसपास भी खड़े किए। अजमेर बाइपास स्थित पुलिया से लेकर सदर थाने के आगे लिंक रोड तक वाहनों की रेलमपेल सबसे अधिक रही। इसके अलावा कुछ खाली भूखण्डों में वाहन खड़े नजर आए हैं। यहां पर पार्किंग की व्यवस्था होने से कुछ वाहन चालकों ने जोखिम लेना मुनासिब नहीं समझा है। गौरतलब है कि दिल्ली में धुंए के कहर को देखते हुए एडीजी एनआरके रेड्डी ने दिल्ली सरकार के 9 से 12 नवम्बर तक बाहरी राज्यों के वाहनों को दिल्ली में प्रवेश पर रोक लगाने के बाद शुक्रवार शाम को यह आदेश जारी किए थे।

रात 12 बजे बाद घूमेंगे टायर!
दिल्ली में स्मॉग के चलते रविवार रात 12 बजे तक ट्रकों को राजस्थान सहित अन्य प्रदेशों में रोका गया है। इसके बाद ट्रकों के पहिए वापस घूमने शुरु होंगे। लेकिन एनजीटी और पुलिस के आदेशों के बाद ही यह संभव होगा। ट्रकों को ज्यादा दिन तक रोका गया तो इनमें रखा सामान खराब हो सकता है। ड्राइवर और क्लीनर को भोजन और वित्तीय समस्याएं हो सकती हैं।

 

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned