चरागाह-तालाब क्षेत्र में बने मकान-बाउंड्रीवॉल ध्वस्त

पंचशील ई-ब्लॉक के सामने माकड़वाली तालाब के पास की भूमि का मामला
चरागाह भूमि पर काटी जा रही थी कॉलोनी, बनाए जा रहे थे मकान

पांच ग्रामीणों से ली अतिक्रमण हटाने की अंडरटेकिंग

By: bhupendra singh

Updated: 13 Feb 2021, 08:36 PM IST

भूपेन्द्र सिंह

अजमेर. शहर से लगते माकड़वाली तालाब के कैचमेंट क्षेत्र व चरागाह की करीब 90 बीघा भूमि पर हो रहे बैखौफ अतिक्रमण पर जिला प्रशासन की जेसीबी गरजी। तहसीलदार प्रीति चौहान के नेतृत्व में अतिक्रमण निरोधक दस्ते ने तालाब की आव में बने मकान को ध्वस्त कर दिया। इसके अलावा पानी की आवक रोक रही चार बाउंड्रीवाल भी तोड़ी गई। इसके अलावा पिलर लगाकर तारबंदी कर लम्बी-चौड़ी जमीन पर कब्जा करने वालों से स्वयं अतिक्रमण हटाने की लिखित अंडरटेकिंग ली गई। तहसीलदार ने उन्हें एक-दो दिन में ही तारबंदी व अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए हैं।

बिजली कनेक्शन कटवाए
अतिक्रमियों ने चरागाह भूमि पर अवैध रूप से मकान बनाने के साथ ही अपना कब्जा साबित करने के लिए निगम से विद्युत कनेक्शन भी ले रखे थे। तहसीलदार ने मौके पर ही निगम अधिकारियों को तलब कर उनके विद्युत कनेक्शन भी कटवा दिए।

तालाब का मौका निरीक्षण

तहसीलदार चौहान ने अतिक्रमण हटाने के साथ ही तालाब की पाल व आव का निरीक्षण का तहसील कार्मिकों को अतिक्रमियों से सख्ती से निपटने के निर्देश दिए। माकड़वाली तालाब कैचमेंट एरिया तथा चरागाह की करीब 90 तीघा भूमि पर अतिक्रमण किया था। इसकी कीमत करीब दो अरब रुपये बताई जाती है। पास ही अजमेर विकास प्राधिकरण की ई-ब्लॉक योजना है। इसके साथ ही एक बिल्डर ने भी कॉलोनी काटी है।
चरागाह के रूप में दर्ज है भूमि

ग्राम माकड़वाली के चार खसरों की करीब 15 हेक्टेयर (90 बीघा) भूमि पर कॉलोनी काटी जा रही थी। एक खसरा नम्बर कि 11.49 हेक्टेयर भूमि,दूसरे खसरे की 0.85 हेक्टेयर, तीसरे खसरे की 0.33 हेक्टेयर, चौथे खसरे की 2.10 हेक्टयर भूमि जमाबंदी के अनुसार यह राजस्व रिकॉर्ड में चारागाह के रूप में दर्ज है। इस भूमि पर तहसील के राजस्व कर्मियों और पंचायत के अधिकारियों की मिलीभगत से कॉलोनी काटने का काम हो रहा था। यहां भू-माफिया तेज गति से दिन रात्रि अतिक्रमण करने में जुटे हुए है।
पत्रिका ने उठाया मामला

चरागाह भूमि व माकड़वाली तालाब की आव में अवैध रूप से भू-माफिया द्वारा काटी जा रही कॉलोनी व मकान निर्माण का मामला 'राजस्थान पत्रिकाÓ ने प्रमुखता से उजागर किया था। मामला जिला कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित के संज्ञान में आने के बाद उन्होंने इसे गंभीरता से लेते हुए तहसीलदार को माकड़वाली में चरागाह व तालाब की भूमि पर अतिक्रमण को हटाने तथा अवैध निर्माण के लिए जिम्मेदार ग्राम पंचायत व तहसील के संलिप्त कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देशित किया।
इनका कहना है

तालाब व चरागाह भूमि से अतिक्रमण हटाया गया है। तारबंदी हटाने के लिए ग्रामीणों से अंडरटेकिंग ली गई। अतिक्रमण नहीं हटाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
प्रीति चौहान, तहसीलदार अजमेर

read more: तालाब में मकान. . .चरागाह में प्लॉटिंग!

Show More
bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned