Impact: लॉकडाउन रहा फायदेमंद, बरसों बाद इठलाई प्रकृति

मानवीय गतिविधियां कम होने से वन्य जीव और जैव विविधता को लाभ हुआ।

By: raktim tiwari

Updated: 26 Aug 2020, 07:41 AM IST

अजमेर.

लॉकडाउन से जैव विविधता को फायदा हुआ। प्रदूषण घटने से स्वच्छ जलवायु, वन्य जीवों की हलचल बढऩे के अलावा हरियाली भी बढ़ी। यह विचार सोफिया कॉलेज में वेबिनार में सामने आए। पेनडेमिक लॉक डाउन और जैव विविधता पर प्रभाव विषय पर आयोजित वेबिनार में बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी के पूर्व अध्यक्ष डॉ असद रहमानी ने कहा कि लॉकडाउन से मानवीय गतिविधियां कम होने से वन्य जीव और जैव विविधता को लाभ हुआ।

बढ़ा वन्य जीवों का शिकार
पूर्व मुख्य वन्य जीव वार्डन जी वी रेड्डी ने कहा कि कई क्षेत्रों में भोजन कमी के कारण वन्यजीवों के शिकार में बढ़ोतरी भी हुई। राजपूताना सोसायटी ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के डॉ. सत्य प्रकाश मेहरा ने कहा कि बीते चार महीनों में वन्यजीवों के व्यवहार में बदलाव आए हैं।

जैव विविधता के वैज्ञानिक भविष्य की संरक्षण परियोजनाओं के लिए अध्ययन कर सकते हैं। राष्ट्रीय जैव विविधता बोर्ड अध्यक्ष डॉ. वी बी माथुर,प्राणी सर्वेक्षण संस्थान के विभागाध्यक्ष डॉ. संजीव कुमार, हेमचंद्राचार्य उत्तर गुजरात विवि के डॉ. निश्चित दहारिया ने भी संबोधित किया। प्राचार्य डॉ. सिस्टर पर्ल ने धन्यवाद दिया।

सुबह से मंडरा रहे बादल, हवा चलने से राहत

अजमेर. लगातार दो दिन भिगाने वाली घटाएं बुधवार को खामोश हैं। काले बादल आसमान में मंडरा रहे हैं। अजमेर शहर और जिले में बरसात नहीं हुई है। हवा चलने और बादलों की उमड़-घुमड़ से मौसम सामान्य बना हुआ है।
सोमवार और मंगलवार को घटाओं ने कभी तेज तो कभी हल्की फुहारों से भिगोया। शहर के वैशाली नगर, पंचशील, माकड़वाली रोड,आगरा गेट, जयपुर रोड, पुलिस लाइंस, आनासागर लिंक रोड, पुष्कर रोड, हरिभाऊ उपाध्याय नगर, कोटड़ा, आदर्श नगर, धौलाभाटा, मेयो लिंक रोड, गुलाबबाड़ी, मदार, महाराणा प्रताप नगर और आसपास के इलाकों में रुक-रुक कर बारिश होती रही। कई जगह सड़कों-नालियों में पानी बहता रहा। बुधवार सुबह से मौसम सामान्य है।

COVID-19 virus
raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned