Innovation: पहली बार इंजीनियरिंग एडमिशन पॉलिसी में होगा ये बदलाव

फिजिक्स और गणित के बगैर भी विद्यार्थियों को इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश देने होंगे। ऐसे विद्यार्थियों को गणित-फिजिक्स का ब्रिज कोर्स पढ़ाया जाएगा।

By: raktim tiwari

Published: 29 Jul 2021, 09:59 AM IST

अजमेर. राज्य के इंजीनियरिंग कॉलेज के दाखिलों में पहली बार बड़ा बदलाव होगा। एआईसीटीई ने देश के सभी कॉलेज में फिजिक्स और मैथ्स के बगैर भी स्टूडेंट्स को प्रथम वर्ष में दाखिला देने को कहा है। इसकी पालना सत्र 2021-22 से की जाएगी।

बीकानेर टेक्निकल यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. ए. एस. विद्यार्थी ने बताया कि एआईसीटीई के निर्देशानुसार फिजिक्स और गणित के बगैर भी विद्यार्थियों को इंजीनियरिंग पाठ्यक्रमों में प्रवेश देने होंगे। ऐसे विद्यार्थियों को गणित-फिजिक्स का ब्रिज कोर्स पढ़ाया जाएगा, ताकि उन्हें दिक्कतें नहीं हों। सभी इंजीनियरिंग कॉलेज को एडमिशन की तैयारियां शुरू करने को कहा गया है।

शिक्षक करें पढ़ाई में नवाचार
प्रो. विद्यार्थी ने कहा कि तकनीकी क्षेत्र में शैक्षिक नवाचार जरूरी हैं। शिक्षकों के निरन्तर शोध और अध्ययन-अध्यापन का फायदा विद्यार्थियों को मिलता है। विद्यार्थी हमारे ब्रांडएम्बेडेसर हैं। शिक्षा प्राप्ति के बाद अच्छे प्लेसमेंट होने चाहिए। शिक्षकों को प्रोजेक्ट और शोध पत्रों पर जोर देना चाहिए।

बनेंगे संघठक कॉलेज
प्रो. विद्यार्थी ने कहा कि राज्य सरकार की घोषणा के अनुसार महिला और बड़ल्या इंजीनियरिंग कॉलेज को बीटीयू का संघठक कॉलेज बनाया जाएगा। इनकी शैक्षिक और आर्थिक स्थिति का मूल्यांकन जारी है। इसके अलावा विवि के एक्ट और नियमानुसार कॅरियर एडवांसमेंट स्कीम में शिक्षकों की पदोन्नतियां भी होंगी।

दोनों कॉलेज में पौधरोपण
महिला और बड़ल्या इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रो. विद्यार्थी ने पौधरोपण किया। बड़ल्या कॉलेज की प्राचार्य डॉ. रेखा मेहरा, महिला इंजीनियरिंग कॉलेज प्राचार्य डॉ. जितेंद्र डीगवाल ने स्वागत किया। इसके अलावा उन्होंने ईको क्लब का शुभारंभ किया। दोनों कॉलेज में पुस्तकालय, कक्षाओं का निरीक्षण किया। पर्यावरण संरक्षण पर आधारित पोस्टर मॉडल का अवलोकन भी किया।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned