अजमेर व चूरू में घूस लेते गिरफ्तार आरोपियों को अदालत ने भेजा जेल

चूरू में कनिष्ठ लिपिक व तकनीकी सहायक तथा अजमेर में हलका पटवारी व दलाल को एसीबी टीम ने मंगलवार को किया था गिरफ्तार,अदालत में पेश करने पर न्यायाधीश ने चारों घूसखोरों को न्यायिक अभिरक्षा में भेजा

By: suresh bharti

Published: 16 Sep 2020, 11:55 PM IST

ajmer अजमेर. ग्राम सराना में नामांतरण खोलने के नाम पर रिश्वत लेते गिरफ्तार पटवारी और उसके दलाल साथी को बुधवार को एसीबी की विशेष अदालत में पेश किया। यहां से दोनों को 30 सितम्बर तक जेल भेज दिया गया। हलका पटवारी जसवंत सिंह ने नामांतरण खोलने के नाम पर 800 रुपए की रिश्वतमांगी थी। परिवादी ने एसीबी कोर्ट में शिकायत कर दी। बाद में एसीबी ने शिकायत की जांच की तो वह सही निकली। मंगलवार को दलाल रामस्वरूप उर्फ बबलू के जरिए घूस लेते एसीबी ने दोनों को गिरफ्तार किया था।

1500 मांगे थे, 800 रुपए देना तय हुआ

पुलिस निरीक्षक मीरा बेनीवाल ने बताया कि ग्राम ऊंटड़ा के मोहम्मद कदीर ने जसवंत सिंह से हक त्याग नामांतरण खुलवाने को लेकर सम्पर्क किया था। दस्तावेजों की जांच के बाद उसने 1500 रुपए मांगे और अंत में 800 रुपए में डील फाइनल हुई। एसीबी ने शिकायत के बाद पीडि़त को रकम के साथ पटवारी जसवंत सिंह के पास पटवार भवन भेज दिया। पटवारी ने पीडि़त से घूस की रकम लेकर दलाल रामस्वरूप उर्फ बबलू को सौंप दी। इसी दौरान पुलिस ने पटवारी और दलाल को धर-दबोचा।

मामला रफादफा करने की एवज में मांगी थी रिश्वत

चूरू. वीसीआर नहीं भरने की एवज में एक लाख की रिश्वत लेने के आरोपी जोधपुर विद्युत निगम लिमिटेड सहायक अभियंता कार्यालय राजलदेसर के जेईएन सुखराम मीणा व तकनीकी सहायक हरिओम शर्मा को एसीबी के अधिकारियों ने बुधवार को बीकानेर अदालत में पेश किया। न्यायालय ने आरोपियों को जेल भेजने के आदेश दिए हैं।

बिजली कनेक्शन को अवैध बताते हुए दी धमकी

उल्लेखनीय है कि गांव बंडवा निवासी किसान नरपतसिंह राठौड़ ने एसीबी के एएसपी आनन्दप्रकाश स्वामी को परिवाद पेश कर बताया था कि आरोपित जेईएन मीणा टीम के साथ चार-पांच रोज पहले परिवादी के खेत में लगे नलकूप पर पहुंचे।

उन्होंने नलकूप पर लगे बिजली कनेक्शन को अवैध बताते हुए धमकी दी कि पांच लाख रुपए की वीसीआर भरी जाएगी। जेईएन ने मामला रफादफ ा करने के लिए एक लाख की मांग की। एसीबी की टीम ने सहायक अभियंता कार्यालय में जेईएन मीणा व तकनीकी सहायक हरिओम शर्मा को रिश्वत लेते दबोच लिया था।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned