scriptKalyan singh: Hindi Department established with patrika News | Kalyan singh: कल्याण सिंह ने पढ़ी पत्रिका की खबर, तुरन्त खुलवाया हिंदी विभाग | Patrika News

Kalyan singh: कल्याण सिंह ने पढ़ी पत्रिका की खबर, तुरन्त खुलवाया हिंदी विभाग

राजस्थान पत्रिका ने मुद्दा उठाया तो तत्कालीन राज्यपाल कल्याण सिंह ने तत्कालीन संज्ञान लिया। उन्होंने तत्कालीन कुलपति प्रो. कैलाश सोडाणी को विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग खोलने के आदेश दिए।

अजमेर

Updated: August 22, 2021 06:43:51 pm

अजमेर.

राजस्थान के पूर्व राज्यपाल कल्याण सिंह कितने सजग प्रशासक थे यह सब जानते हैं। उन्होंने राजस्थान पत्रिका की एक खबर पढ़कर ऐसा काम किया जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है। कल्याण सिंह ने खबर के आधार पर त्वरित संज्ञान लिया। उन्होंने महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग की स्थापना में अहम योगदान दिया।
former governor kalyan singh
former governor kalyan singh
1987 में स्थापित महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय में मातृभाषा हिंदी का विभाग नहीं था। यहां विज्ञान, कला, वाणिज्य, प्रबंधन, विधि और अन्य संकाय के विषय ही संचालित रहे। राजस्थान पत्रिका ने साल 2014 में विश्वविद्यालय का नहीं हिंदी से सरोकार...शीर्षक से खबर लगाई।
खबर पर लिया तुरन्त संज्ञान
राजस्थान पत्रिका ने मुद्दा उठाया तो तत्कालीन राज्यपाल कल्याण सिंह ने तत्कालीन संज्ञान लिया। उन्होंने तत्कालीन कुलपति प्रो. कैलाश सोडाणी को विश्वविद्यालय में हिंदी विभाग खोलने के आदेश दिए। आखिर सत्र 2015-16 से विश्वविद्यालय में राष्ट्रभाषा हिंदी का विभाग स्थापित हुआ।
विभाग की नहीं सुध
छह साल से मातृभाषा हिंदी का विभाग का महज एक शिक्षक के भरोसे संचालित है। विभाग में कोई स्थाई प्रोफेसर, रीडर अथवा लेक्चरर नहीं है। वर्षभर हिंदी भाषा के राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन, कार्यशाला, विद्यार्थियों की प्रतियोगिता नहीं कराई जाती हैं। हिंदी दिवस पर औपचारिक चर्चा, संगोष्ठी ही होती है।
कॉलेज में भी हाल खराब
उच्च शिक्षा विभाग से जुड़े स्नातक और स्नातकोत्तर कॉलेज में भी हिंदी भाषा के हाल खराब होने लगे हैं। प्रथम वर्ष में तो विद्यार्थी सिर्फ हिंदी में पास होने के लिए किताब पढ़ते हैं। स्नातकोत्तर स्तर पर संचालित हिंदी कोर्स में भी प्रवेश घट रहे हैं। अजमेर के सम्राट पृथ्वीराज चौहान राजकीय महाविद्यालय जैसे कुछेक संस्थाओं को छोड़कर अधिकांश में युवाओं का रुझान हिंदी में एमए करने की तरफ घट रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

क्या सच में बुझा दी गई अमर जवान ज्योति? केंद्र सरकार ने दिया जवाबVideo: बॉम्बे हाई कोर्ट के जज के चैंबर में मिला 5 फीट लंबा सांप, वन विभाग की टीम ने किया रेस्क्यूदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारUP Assembly Elections 2022 : एकाएक राजनीति में उतरकर इन महिलाओं ने सबको चौंकाया, बटोरी सुर्खियांभारत के इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में Adani Group की हो सकती है धमाकेदार एंट्री, कंपनी ने ट्रेडमार्क किया दायरDriving License पर पता बदलने के लिए अब नहीं पड़ेगी RTO के चक्कर लगाने की जरूरत, मिनटों में समझे प्रोसेसइंडिया गेट पर जहां लगेगी सुभाष चंद्र बोस की मूर्ति, जानिए वहां पहले किसकी थी प्रतिमाIND vs SA: ऋषभ पंत हुए 'ब्रेन फेड' का शिकार, केएल राहुल ने बीच मैदान दिखाई आंख
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.