हिमाकत : हिण्डौन नगर परिषद की करोड़ों रुपए की जमीन हड़प गए भूमाफिया! कॉलोनियां बनाने के लिए बेच डाले भूखंड

हिण्डौनसिटी स्थित करौली रोड पर १४ एयर भूमि पर भूखंड काट कर बेचे,नगर परिषद प्रशासन की लापरवाही से करोड़ों का नुकसान,सरकारी जमीनें बिकने के बाद परिषद प्रशासन को पता नहीं चलना आश्चर्यजनक

By: suresh bharti

Published: 27 Jun 2021, 11:23 PM IST

अजमेर/हिण्डौनसिटी (करौली). उपखंड मुख्यालय पर भूमाफिया बेफिक्र होकर सरकारी जमीनों पर कब्जा करने में लगे हुए हैं। राजनीतिक संरक्षण और सिस्टम की मिलीभगत के चलते कोई कार्रवाई नहीं हो रही। ताजा मामला करौली रोड पर ऊंचे का पुरा के समीप का है, जहां नगरपरिषद की खातेदारी की १४ एयर भूमि पर पहले तो भूमाफियाओं ने कब्जा किया। बाद में भूखंड काटकर मनमाने दामों पर बेच करोड़ों रुपए की कमाई कर ली। अब इस बेशकीमती सरकारी जमीन पर अवैध रूप से निर्माण कार्य चल रहे हैं।
मजेदार बात तो यह है कुछ दिन पहले पंचायत समिति में हुई विभागवार समीक्षा बैठक में एसडीएम अनूपसिंह ने खसरा नंबर4030 के रकबा १४ एयर भूमि से अवैध कब्जे हटाने के नगरपरिषद प्रशासन को निर्देश दिए थे। इसके बावजूद परिषद प्रशासन ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। जो सांठगांठ को साफ दर्शाता है।

भूखंडों पर पक्के निर्माण किए जा रहे

राजस्व विभाग के सूत्रों के अनुसार खसरा नंबर ४०३० हिण्डौन-करौली मार्ग पर नगरपरिषद की सीमा में स्थित है, जो राजस्व रिकॉर्ड में गैर मुमकिन नहरी भूमि के रूप में दर्ज है। लॉकडाउन का फायदा उठाकर सडक़ किनारे की इस बेशकीमती भूमि पर भूमाफियाओं ने कब्जा कर लिया। इसके बाद अलग-अलग साईज में भूखंड काट बेच डाले। अब इन भूखंडों पर पक्के निर्माण किए जा रहे हैं। ऐसा नहीं है कि इस भूमि के बारे में परिषद के जिम्मेदारों को पता नहीं हो, लेकिन मिलीभगत के कारण भूमाफियाओं के खिलाफ एक्शन नहीं लिया जाता है।

सरकारी भूमि पर कई जगह कब्जे

शहर में कई स्थानों पर सरकारी भूमि पर भूमाफियाओं के कब्जे हैं। सूत्रों के अनुसार शहर में झारेड़ा रोड पुलिया के पास, बयाना रोड, खरेटा रोड, मंडावरा रोड व बरगमां रोड पर बेशकीमती सरकारी भूमि पर भूमाफियाओं की नजर है। करीब दो माह पहले झारेड़ा रोड पुलिया के पास रातोरात बनाई जा रही दुकानों के अलावा बयाना रोड पर अवैध निर्माण कार्य को प्रशासन ने ध्वस्त भी कराया था।

कृषि भूमि पर काटी जा रही कॉलोनियां

भले ही कोरोना महामारी के चलते प्रोपर्टी बाजार में मंदी आई हो, लेकिन उपखंड मुख्यालय पर कृषि भूमि पर अवैध कॉलोनियां काटी जा रहीं हंै। भूमाफियाओं का यह अवैध कारोबार खुलेआम चल रहा है, लेकिन प्रशासन के अलावा नगरपरिषद के अधिकारी आंखें मूंद कर बैठे हुए हैं। बेनियम काटे जा रहे भूखंडों पर बिना अनुमति के अवैध निर्माण भी हो रहे है। कॉलोनाइजर लोगों को सस्ते का लालच देकर बिना रजिस्ट्री के शपथ पत्र पर भूखंड बेच रहे हैं।

टॉउनशिप पॉलिसी की नहीं हो रही पालना

सूत्रों के मुताबिक प्रापर्टी कारोबार से जुड़े लोग व भूमाफिया मिलकर शहरी क्षेत्र में किसानों से उनकी खातेदारी की कृषि भूमि को खरीद कर अवैध रूप से भूखंड काट रहे हैं, जो कि टाउनशिप पॉलिसी 2०1० का उल्लंघन है। कड़ी कार्रवाई नहीं होने से प्रापर्टी कारोबारी कुकुरमुत्तों की तरह शहर के आसपास कई कॉलोनियां काट चुके हैं। वर्तमान में भी महवा रोड, करौली रोड, बयाना रोड, बायपास पर राजकीय महाविद्यालय के पीछे, निर्माणाधीन ओवरब्रिज के पास, बरगमां रोड, झारेड़ा रोड, तेली पंसरी रोड, लपावली रोड, खरेटा रोड, बाजना रोड, बनकी रोड समेत अन्य कई स्थानों पर कृषि भूमि में धड़ाधड़ अवैध कॉलोनियां काटी जा रही है। दूसरी ओर प्रशासन कड़ी कार्रवाई की जहमत नहीं उठा रहा।

इनका कहना है

सरकारी भूमि पर कब्जे की शिकायत मिली है। नगरपरिषद आयुक्त को अवैध कब्जे हटाने के निर्देश दिए हैं। जल्द कार्रवाई होगी। साथ ही कृषि भूमि पर अवैध कॉलोनियां काट भूखंडों का बेचान करने वालों पर भी कानूनी शिकंजा कसा जाएगा।
अनूप सिंह, एसडीएम, हिण्डौनसिटी

सरकारी भूमि के मामले में उपखण्ड अधिकारी कार्यालय से निर्देश मिले हैं। जल्द की भूमि का सीमा ज्ञान करा कार्रवाई की जाएगी।
कीर्ति कुमारी कुमावत, आयुक्त नगर परिषद, हिण्डौनसिटी

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned