मकर संक्रांति पर महके तिल के लड्डू, कुछ यूं होगा शहर में दान-पुण्य

मकर संक्रांति पर महके तिल के लड्डू, कुछ यूं होगा शहर में दान-पुण्य

raktim tiwari | Publish: Jan, 14 2018 07:27:43 AM (IST) Ajmer, Rajasthan, India

महिलाओं और लोगों ने घरों में मंदिर पूजा अर्चना शुरू कर दी। मंदिरों में मंत्रोच्चार से पूजन के अलावा भजन गूंज उठे।

पारम्परिक मकर संक्रांति पर्व रविवार को शुरू हो गया। अलसुबह से महिलाओं और लोगों ने घरों में मंदिर पूजा अर्चना शुरू कर दी। मंदिरों में मंत्रोच्चार से पूजन के अलावा भजन गूंज उठे। लोग दिन भर दान-पुण्य करेंगे।
माघ कृष्ण चतुदर्शी पर मकर संक्रांति पर्व मनाई जाती है।

रविवार अलसुबह 5 बजे से ही लोग मंदिरों में पूजा-अर्चना करने पहुंच गए। मदार गेट बालाजी मंदिर, बजरंगगढ़, वैशाली नगर, शास्त्री नगर, केसरगंज, रामगंज, नया बाजार, होलीधड़ा और अन्य मंदिरों में घडिय़ाल गूंज उठे। महिलाओं, पुरुषों ने विधि-विधान से पूजन कर भगवान को भोग लगाया। घरों में भी पूजन किया गया।

महिलाएं करेंगी वस्तुओं का दान
मकर संक्रांति पर महिलाएं 13 सुहागिन महिलाओं को 13 वस्तुओं का दान कर घर-परिवार में खुशहाली की कामना करेंगी। तिल के लड्डू, गजक, रेवड़ी और अन्य मिठाई से भोग लगाया जाएगा। शहर में कई पकौड़े-हलवे के वितरण का कार्यक्रम भी रखा गया है।

गायों के लिए हरा चारा
मकर संक्रांति पर गायों को हरा चारा खिलाने की परम्परा है। इसके चलते सुबह से वैशाली नगर, शास्त्री नगर, नाका मदार, कुंदन नगर, नया बाजार, केसरगंज, रामगंज, धौलाभाटा, अजयनगर, हरिभाऊ उपाध्याय नगर, कोटड़ा, फायसागर रोड और अन्य स्थानों पर पशुपालक और व्यापारी हरा-चारा लेकर पहुंच गए। लोग दिनभर गायों को चारा खिलाएंगे। मदार गेट-गांधी भवन पर गौशाला में दान के लिए कैनोपी भी लगाई जाएगी। कई संचालकों-प्रबंधकों ने गौशालाओं में गायों-बछड़ों के पूजन और हरे चारे-बांटे का दान करने का आग्रह किया है।

बाजारों में हुई खरीददारी
मकर संक्रांति सेपहले बाजारों में खरीददारी का दौर चला। रविवार को भी लोगों ने तिल के लड्डू, गुड़ और शक्कर की गजक, रेवड़ी, मंूगफली और अन्य सामग्री खरीदेंगे। महिलाओं ने दान-पुण्य के लिए साडिय़ां, कपड़े और अन्य वस्तुओं की खरीद-फरोख्त करेंगी। मदार गेट, नया बाजार, पुरानी मंडी, दरगाह बाजार और अन्य इलाकों में दुकानों पर रौनक रहेगी।

शुरु हो जाएंगे शुभ कार्य
धार्मिक मान्यता के अनुसार मकर संक्रांति से शुभ कार्यों की शुरुआत भी मानी जाती है। कई लोग वाहन, घर और अन्य सामग्री की खरीद फरोख्त करते हैं। इसके बाद बसंत पंचमी से विवाह समारोह की शुरुआत भी होती है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned