प्रोग्राम के बीच बिगड़ी मंत्री देवनानी की तबीयत, हॉस्पिटल में कराया भर्ती

उन्हें तत्काल जवाहरलाल नेहरू अस्पताल के कार्डियोलॉजी विभाग में भर्ती कराया गया।

By: Prakash Chand Joshi

Updated: 12 Nov 2017, 06:19 PM IST

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी की रविवार को अचानक तबीयत बिगड़ गई। टाक समाज के कार्यक्रम के दौरान उन्हें रक्तचाप कम होने के साथ सीने में बैचेनी महसूस हुई। उन्हें तत्काल जवाहरलाल नेहरू अस्पताल के कार्डियोलॉजी विभाग में भर्ती कराया गया। यहां कार्डियोलॉजी विभागाध्यक्ष और प्राचार्य डॉ. आर. के. गोखरू की देखरेख में उनका उपचार जारी है।

शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी सुबह 11 बजे टाक समाज के दिवाली स्नेह मिलन और डाइरेक्ट्री विमोचन कार्यक्रम में पहुंचे। यहां कार्यक्रम के दौरान ही उन्हें सीने में बैचेनी महसूस हुई। साथ ही रक्तचाप कम होता महसूस हुआ। तबीयत बिगड़ते देख तत्काल आयोजक और वहां मौजूद स्टाफ उन्हें लेकर जवाहरलाल नेहरू अस्पताल पहुंचे। यहां कार्डियोलॉजी विभाग में उन्हें भर्ती कराया गया। कार्डियोलॉजी विभागाध्यक्ष और जेएलएन मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. आर. के. गोखरू और अन्य स्टाफ मौके पर पहुंचा। यहां उनका उचपार शुरू कर दिया गया। तीन बार ईसीजी की गई। ईसीजी की रिपोर्ट सामान्य आई है।

पिछले साल हुआ एक्सीडेंट

देवनानी का पिछले साल एक स्कूटी से जयपुर रोड स्थित होटल के सामने एक्सीडेंट हो गया था। इससे उनके पैर में फे्रक्चर हो गया। उन्हें तत्काल जेएलएन अस्पताल में भर्ती किया गया। यहां से देवनानी को जयपुर के एसएमएस अस्पताल शिफ्ट किया गया। वहां उनके पैर का ऑपरेशन कर रॉड डाली गई। देवनानी कई महीनों बाद स्वस्थ हो पाए थे।

हॉस्पिटल पहुंचे लोग

देवनानी की तबीयत बिगडऩे की सूचना मिलते ही भाजपाई और उनके शुभचिंतक हॉस्पिटल पहुंच गए। कार्डियोलॉजी विभाग में भाजपा शहर अध्यक्ष अरविंद यादव, महापौर धर्मेन्द्र गहलोत सहित विभिन्न मंडलों के पदाधिकारी, शिक्षा विभाग के अधिकारी, शिक्षक नेता सहित पार्षद मौके पर पहुंच गए। देवनानी के परिजन और रिश्तेदार भी अस्पताल पहुंच गए।

जाट की भी बिगड़ी थी तबीयत

पूर्व सांसद प्रो. सांवरलाल जाट की भी जुलाई में भाजपाध्यक्ष अमित शाह की बैठक के दौरान अचानक तबीयत बिगड़ गई थी। प्रो. जाट बेहोश होकर नीचे गिर पड़े थे। उन्हें तत्काल एसएमएस अस्पताल जयपुर में भर्ती कराया गया। यहां से करीब एक सप्ताह बाद उन्हें दिल्ली में शिफ्ट किया गया। अन्तत: उनकी मृत्यु हो गई। जाट के निधन के बाद अजमेर में लोकसभा उपचुनाव होने हैं। इसको लेकर अभी चुनाव तिथि तय नहीं हुई।

भाजपा की चिंता काफी बढ़ी

भाजपा के कई नेताओं की पिछले चार-पांच महीने से खराब चल रही है। इनमें कई विधायक और सांसद शामिल हैं। अलवर के सांसद महंत चांदनाथ की भी हाल में मृत्यु हुई है। वहां भी लोकसभा उपचुनाव होने हैं। इसी तरह मांडलगढ़ की विधायक कीर्ति कुमारी की भी डेंगू से मृत्यु हो चुकी है। वहां भी विधानसभा उपचुनाव होने हैं। ऐसे में भाजपा की चिंता काफी बढ़ी हुई है।

Show More
Prakash Chand Joshi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned