MONSOON: 113 दिन में चाहिए 550 मिलीमीटर बरसात

550 मिलीमीटर है जिले की औसत बरसात। पिछले साल में पूरा नहीं हुआ था आंकड़ा।

By: raktim tiwari

Updated: 10 Jun 2021, 08:23 AM IST

अजमेर.

प्रदेश और जिले में मानसून भले नहीं आया हो, लेकिन इसके नौ दिन बीत चुके हैं। अजमेर जिले को बचे हुए 113 दिन में 550 मिलीमीटर बरसात चाहिए। यह तब होगा जबकि कई बार झमाझम बरसात हो। लेकिन पिछले साल में हुई कम बरसात को देखते हुए ऐसा होना मुश्किल है।

राज्य और जिले में मानसून की अवधि 1 जून से 30 सितम्बर (122 दिन) तक मानी जाती है। इस दौरान होने वाली बरसात से खेतों में सिंचाई, तालाबों-बांधों में पानी आता है। साथ ही साल भर जलापूर्ति के लिए पानी मिलता है। अगर मानसून की 122 दिन की अवधि मानें तो इसके नौ दिन बीत चुके हैं। अब मात्र 113 दिन यानि जून के 21 दिन, जुलाई के 31, अगस्त के 31 और सितम्बर के 30 दिन और बचे हैं। इस दौरान होने वाली बरसात ही जिले के लिए वरदान साबित होगी।

पिछले साल कम बरसात मानसून
पिछले साल में अजमेर जिले पर ज्यादा मेहरबान नहीं हुआ। जिले में करीब 490 से 500 मिलीमीटर बरसात हुई थी। अलनिनो प्रभाव के चलते जिले में पर्याप्त बरसात नहीं हुई है। जिले में कई बड़े जलाशयों में तो नाम मात्र का पानी पहुंचा था।

दस साल में हुई औसत बरसात
साल 2011 में 549 मिलीमीटर 2012 में 520.2, 2013 में 540, 2014 में 545.8, 2015 में 381.44, 2016 में 512.07 और 2017 में 450, 2018 में 500 मिलीमीटर बरसात ही हो पाई। केवल 2019 में झमाझम बरसात से बरसात का आंकड़ा 900 मिलीमीटर तक पहुंचा था।

जलाशयों का पानी का इंतजार
जिले के छोटे और बड़े जलाशयों को पर्याप्त पानी का इंतजार है। इनमें राजियवास, बीर, मूंडोती, पारा प्रथम और द्वितीय, बिसूंदनी, मकरेड़ा, रामसर, अजगरा, ताज सरोवर अरनिया, नारायण सागर खारी, मान सागर जोताया, देह सागर बडली, भीम सागर तिहारी, खानपुरा तालाब, लाकोलाव टैंक हनौतिया, पुराना तालाब बलाड़, जवाजा तालाब, देलवाड़ा तालाब, छोटा तालाब चाट, बूढ़ा पुष्कर, मान सागर जोताया, कोडिय़ा सागर अरांई, जवाहर सागर सिरोंज, सुरखेली सागर अरांई, बिजयसागर लाम्बा, विजयसागर फतेहगढ़, बांके सागर सरवाड़ और अन्य शामिल है।

यहां मापी जाती है बरसात
अजमेर, श्रीनगर, गेगल, पुष्कर, गोविन्दगढ़, बूढ़ा पुष्कर, नसीराबाद, पीसांगन, मांगलियावास, किशनगढ़, बांदरसिदरी, रूपनगढ़, अरांई, ब्यावर, जवाजा, टॉडगढ़, सरवाड़, केकड़ी, सावर, भिनाय, मसूदा, बिजयनगर, नारायणसागर और अन्य

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned