अजमेर जिले में मानसून की दस्तक,गरजे और बरसे मेघा

कई जगह बारिश होने से जगह-जगह भरा पानी, किसान खेती कार्य में जुटे,खाद-बीज व कृषि यंत्रों की दुकानों पर किसानों की भीड़,पीसांगन में पोल पर व गोविंदगढ़ में खेजड़ी के पेड़ पर गिरी बिजली

By: suresh bharti

Published: 24 Jun 2020, 11:11 PM IST

ajmer अजमेर. जिले में झुलसाने वाली गर्मी और उमस के बाद बुधवार शाम बदरा जमकर बरसे। इस दौरान चारों दिशाओं से काली घटाएं तेज हवा के साथ छा गई। बारिश से मौसम सुहाना हो गया। सरवाड़ में एक घंटे तेज बारिश से सडक़ों पर खूब पानी बहा। रूपनगढ़, अरांई, पुष्कर, श्रीनगर, मसूदा, नसीराबाद, केकड़ी,सरवाड़ व भिनाय क्षेत्र में भी बारिश हुई।

सरवाड़ में दोपहर 12 बजे से एक बजे तक बूंदाबांदी हुई। उसके बाद शाम 5.30 बजे से 6.30 बजे तक बादल मूसलाधार बरसे, जिससे सडक़ो पर पानी बह गया। इस दौरान यहां एक इंच से ज्यादा बारिश दर्ज की गई। विजयद्वार से सब्जी मंडी सडक़ पर डेढ़ फीट पानी बह गया। चमन चौराहा व स्कूल रोड़ पर भी पानी बह गया। भीमेश्वर मंदिर रोड़ पूरा पानी में डूब गया। बारिश से यहां अनेक गली मोहल्लों में भी सडक़ों पर पानी बहता दिखाई दिया। गांधी चौक भी पानी से लबालब भर गया।

बिजलियां कडक़ी और बरसे बदरा

ब्यावर शहर सहित आस-पास के क्षेत्र में बुधवार को तेज हवा के साथ बरसात हुई। इससे सडक़ों पर पानी बह निकला। एकाएक बरसात शुरु होने से मुख्य बाजार में लोगों ने दुकानों के बाहर खड़े होकर बचाव किया,जबकि दिनभर तेज उमस से लोगों का हाल-बेहाल रहा। शाम को बिजलियां कडक़ी और तेज हवा के साथ बरसात हुई। पीसांगन क्षेत्र में 11 मिलीमीटर बरसात दर्ज की गई। गोविंदगढ़ रोड पर पीसांगन पगारा 11 हजार केवी लाइन के एक पोल पर आकाशीय बिजली गिर गई। इसके चलते पगारा की बिजली सप्लाई बंद हो गई। बुधवार को पीसांगन क्षेत्र के फ तेहपुरा, सेठन, समरथपुरा, जसवंतपुरा, गोविंदगढ़, अखेपुरा सहित दो दर्जन गांवों में बरसात हुई। पौन घंटे तक जमकर पानी बरसा।

तीन बकरियों की मौत

गोविंदगढ़ सरपंच जगपाल सिंह शक्तावत ने बताया कि सिपाहियों की ढाणी निवासी गफ्फार व गन्नी रेवड़ चराने जंगल गए हुए थे। शाम को 6 बजे बरसात शुरू होने पर तीन बकरियां खेजड़ी के पेड़ के नीचे खड़ी हो गई । इसी दौरान आकाशीय बिजली गिरने से तीनो बकरियों ने दम तोड़ दिया।

भिनाय में शाम 4 बजे से रिमझिम बरसात का दौर शुरू हुआ। कस्बे सहित आस पास के कई गावों में बुधवार को इन्द्रदेव मेहरबान रहे। ग्राम एकलसिंघा, कनेईकलां, नागोला, देवलिया कलां, बान्दनवाडा सहित क्षेत्र के सभी गांवों में देर शाम तक बरसात होती रही। वहीं कस्बे में कभी तेज कभी रिमझिम बारिश हुई, जिससे सडक़ों पर पानी बह निकला व गड्ढों में पानी भर गया।

सराना सहित क्षेत्र में बरसे बदरा

सराना,गोयला,शेरगढ़, सनोदिया, जड़ाना, सातोंलाव आदि गांवों में मानसून की पहली बरसात हुई। दोपहर बाद हुई तेज और मूसलाधार बरसात से खेतों और सडकों पर पानी भर गया। इस बरसात के बाद किसानों के चेहरों पर खुशी दिखाई दी।

ग्रामीणों ने बताया कि इस बरसात से खेतों में फसल बुआई कार्य शुरू हो जाएगा। मौसम विभाग की जानकारी के अनुसार 24 जून को मानसूनी बरसात होने की बात सच होने पर किसानों समय पर फसलों की बुआई होने से सन्तुष्टता व्यक्त की। पहली बरसात के बाद लोगों को भीषण गर्मी से भी राहत मिली है।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned