बेटे को कुएं में गिरते देख मां ने लगाई छलांग, डूबने से दोनों की मौत

खेत पर कृषि कार्य करते समय हुआ हादसा, बेटे को गिरता देख मां ने बचाने के लिए लगाई छलांग, देवर भी कुएं में जा कूदा,लेकिन भाभी व भतीजे को नहीं बचा पाया

By: suresh bharti

Published: 22 Sep 2020, 11:42 PM IST

अजमेर/श्रीनगर. आखिर मां की ममता सागर से भी अधिक गहरी है। अपनी संतान को वह संकट में नहीं देख सकती। उसके सुख,जान बचाने या मुसीबत में वह जान की बाजी भी लगा देती है। अजमेर जिले में श्रीनगर पंचायत समिति क्षेत्र स्थित ग्राम लवेरा में मंगलवार को कुछ ऐसा ही हुआ। यहां कृषि कार्य करते समय एक मां ने अपने दो साल के बेटे को कुएं में गिरते देखा तो कलेजे के टुकड़े को बचाने मां भी कुएं में कूद गई। बाद में दोनों की डूबने से मौत हो गई।

उसने कुएं में छलांग लगा दी

पुलिस के अनुसार ग्राम लवेरा में विवाहिता मतिया गुर्जर (28) मंगलवार सुबह भैंस के लिए चारा काट रही थी। पास ही उसका दो वर्षीय पुत्र लक्खी खेल रहा था। अचानक वह कुएं के मुण्डेर पर पहुंच गया। मां ने जब बेटे को कुएं में गिरते देखा तो वह शोर मचाते हुए भागकर आई। बेटे को पानी में छटपटाते देख मां ने आव देखा ना ताव। उसने कुएं में छलांग लगा दी। कुएं से धमाके की आवाज सुनकर देवर राजू भागकर आया। वह भी भाभी मतिया व भतीजे को पानी में डूबते देख कुएं में कूद गया। राजू को तैरना आता था। साथ में उसने विद्युत इंजन के पाइप को पकड़कर दोनों को बचाने की कोशिशें की,लेकिन मां-बेटे डूब गए।

पलंग बांधकर राजू को बाहर निकाला

घटना की जानकारी मिलते ही बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। श्रीनगर थानाप्रभारी प्रभूदयाल वर्मा, प्रशिक्षु आरपीएस छवि शर्मा, दीवान मोहनराम भी मय जाप्ता के आए। पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से करीब तीन घंटे की मशक्कत के बाद महिला व उसके पुत्र का शव बाहर निकाला। राजू को पलंग के जरिए कुएं से ऊपर खींचा। पुलिस ने मां-बेटे का पोस्टमार्टम करा शव परिजन के सुपुर्द कर दिए। ग्रामीणों ने बताया कि विवाहिता के दो पुत्र थे। इसमें बड़ा पुत्र अंकित पांच वर्षीय और छोटा पुत्र लक्खी दो वर्ष का था।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned