करंट से मां-बेटे की मौत, बचाने आई पुत्रवधु झुलसी

खेत में सिंचाई पाइप लाइन बदलते समय हुआ हादसा, अर्थिंग की शिकायत की गई थी, लेकिन विद्युत निगम ने नहीं की सुनवाई

By: suresh bharti

Published: 10 Jul 2020, 11:29 PM IST

अजमेर/चूरू. घर से कलेवा कर एक किसान परिवार खुशी-खुशी खेत पर पहुंचाा था। यहां खेत में खरपतवार हटाने, फसल निराई तथा अन्य कार्य करने लगा। तभी एक हादसे से पूरे परिवार पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा। खेत में बेटे को करंट की चपेट में देख उसकी जान बचाने आई मां भी मौत का शिकार हो गई।

खेत में सिंचाई के पाइप बदलते समय एक युवक करंट की चपेट में आ गया था। हादसे में मां-बेटे की मौत हो गई। इससे पहले सास व पति की हालत देख बहू बचाने आई तो वह झुलस गई। चीख सुनकर आसपास के खेतों में काम करने वाले किसान भागकर आए। तीनों को निजी वाहन से अस्पताल पहुंचाया, जहां मां-बेटे को मृत घोषित कर दिया।

खेत में पाइप लाइन बदलते हुआ हादसा

चूरू जिले के बूटिया की रोही के पास शुक्रवार सुबह चूरू शहर के वार्ड नं. 46 निवासी कुलदीप धानक (23) पत्नी उच्छव, दस माह की बेटी महक व मां अनिता देवी (42) खेत में काम करने गए थे। खेत में पाइप लाइन बदलते समय अचानक कुलदीप को करंट लग गया। मां अनिता देवी बेटे को बचाने दौड़ी, लेकिन वह भी करंट की चपेट में आ गई। पुत्रवधु उच्छव दौडक़र आई तो वह भी करंट के झटके से दूर जा गिरी।

अर्थिंग के चलते फैली समस्या

परिजन ने रिपोर्ट में बताया कि काफी दिनों से खेत में अर्थिंग की समस्या थी। मामले को लेकर विद्युत निगम के अधिकारियों को शिकायत की गई थी, लेकिन समाधान नहीं होने से मां-बेटे को जान देकर कीमत चुकानी पड़ी। सदर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned