scriptMP Ghat buzzing with boating | नौकायन से गुलजार एमपी घाट, हमारी सरकार देख रही बाट | Patrika News

नौकायन से गुलजार एमपी घाट, हमारी सरकार देख रही बाट

पर्यटन सीजन हुआ शुरू, हम नहीं तैयार- हमारे हिस्से का पर्यटन भी छीन रहा , मध्यप्रदेश- एमपी कर रहा जमकर कमाई, हमारे हाथ नहीं आ रहा धेला

कोविड संक्रमण के बुरे दौर से गुजरने के बाद पर्यटन सीजन शुरू होते ही मध्यप्रदेश की ओर के चम्बल घाट नौकायन से गुलजार हो गए हैं। इधर, हमारी शहरी सरकार की तैयारी भी पूरी नहीं हो पाई है।

अजमेर

Published: November 02, 2021 01:03:25 am

धौलपुर. कोविड संक्रमण के बुरे दौर से गुजरने के बाद पर्यटन सीजन शुरू होते ही मध्यप्रदेश की ओर के चम्बल घाट नौकायन से गुलजार हो गए हैं। इधर, हमारी शहरी सरकार की तैयारी भी पूरी नहीं हो पाई है। अभी केवल चबूतरे को ही ठीक कराया गया, लेकिन वह भी पानी में डूब गया। रास्ता भी ऊबड़-खाबड़ ही बना हुआ है। हमारा स्टीमर भी पुराना ही है, जिसे अभी तक चालू स्थिति में नहीं ला पाए हैं। मध्यप्रदेश वन विभाग की ओर से अपनी सीमा में आधुनिक स्टीमरों को सजाया गया है और टेंट लगाए गए हैं। इसके चलते पर्यटक मध्यप्रदेश सीमा में जा रहे हंै। मध्यप्रदेश सीमा में 15 अक्टूबर को ही चम्बल सफारी की शुरुआत कर दी गई है। हालांकि अमूमन धौलपुर में हर साल शरद पूर्णिमा पर चम्बल सफारी की शुरुआत की जाती रही है, लेकिन इस बार शरद पूर्णिमा भी निकल गई, फिर भी सफारी शुरू नहीं हो पाई है।
नौकायन से गुलजार एमपी घाट, हमारी सरकार देख रही बाट
नौकायन से गुलजार एमपी घाट, हमारी सरकार देख रही बाट
खस्ताहाल बोट हमारी, पर्यटक एमपी में करते सफारी

धौलपुर नगर परिषद के पास फिलहाल एक ही बोट है। वह भी खस्ताहाल है। जबकि मध्यप्रदेश सीमा में स्थित वन विभाग की चम्बल सफारी में लगी बोट आधुनिक, आकर्षक तथा बड़ी हंै। इससे राजस्थान-मध्यप्रदेश सीमा पर बने पुल से गुजरने वाले लोगों को वह बोट अनायास ही अपनी ओर ध्यान खींच लेती है। जिसके चलते पर्यटकों की बड़ी संख्या मध्यप्रदेश की सीमा में चली जाती हैं। ऐसे में नगरपरिषद की ओर से लगाई गई बोट से अधिक राजस्व एकत्रित नहीं होता है। जबकि राजस्थान के बहुत अधिक संख्या में पर्यटक आते हैं, वे भी एमपी की बोट की तरफ आकर्षित हो जाते हैं। ऐसे में बोट की जरूरत पिछले दो वर्ष से महसूस की जा रही है।
आखिर कब खत्म होगा नई बोट का इंतजार
जिला मुख्यालय पर चम्बल सफारी के लिए नई बोट का इंतजार भी खत्म नहीं हो पा रहा है। गत वर्ष नई बोट की घोषणा के बाद इस बार बजट में भी राशि का प्रावधान किया गया था, लेकिन पर्यटन सीजन शुरू होने के बाद भी नई बोट खरीदने के लिए अभी कोई प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है। इससे आशंका व्यक्त की जा रही है कि कहीं इस बार भी पर्यटकों को पुरानी बोट के सहारे ही चम्बल सफारी करनी पड़ेगी। परिषद अधिकारियों ने बताया था कि नई बोट करीब 20 सीटर होगी। जिससे एक बार में दो परिवार आराम से चम्बल नदी की सफारी कर सकते हैं। अभी तक नगरपरिषद के पास उपलब्ध बोट छह सीटर ही है। ऐसे में बड़े परिवार या एक ही टीम के कई सदस्य आने पर उन्हें इंतजार करना पड़ता था। साथ ही एक साथ नहीं घूमने का मलाल भी रहता है। वहीं पुरानी बोट को भी रेनोवेट करने की बात कही जा रही है। जिससे पर्यटक आकर्षित हो सके।
बोट के बहाने दिखाए थे सब्जबाग
बजट में नई बोट खरीदने के साथ ही कई सुविधाएं उपलब्ध कराने के भी सब्जबाग दिखाए गए थे। इसमें बोट के 20 सीटर होने के साथ पर्यटकों के लिए पानी की बोतल देने, अन्य दर्शनीय व रमणिम स्थलों की जानकारी देने वाला ब्रोशर देने, चम्बल में स्थित जलीय जीव घडिय़ाल, मगरमच्छ के अलावा अन्य पशु व विदेशी पक्षियों के बारे में पूरी जानकारी की बुकलेट देने की बात कही थी। इसके अलावा गाइड की व्यवस्था करने का भी प्रावधान किया गया था, जिससे पर्यटकों को सभी पक्षियों व जलीय जीवों के बारे में अपडेट करेगा। इनका कहना है चम्बल सफारी की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन चम्बल नदी में पानी आने से कमरा व स्ट्रक्चर डूब गया था। अभी पानी उतरने में सात-आठ दिन लगेंगे। वन विभाग से अनुमति भी मांगी गई है, जिसके आते ही सफारी शुरू कर दी जाएगी। नई बोट खरीदने के लिए तैयारी शुरू कर दी है। शीघ्र ही नई बोट खरीद लेंगे।
- लजपाल सिंह, आयुक्त, नगरपरिषद, धौलपुर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.