इन्होंने कर दिया था ये बड़ा कारनामा, अब खुलेंगे इनके असली राज

www.patrika.com/rajasthan-news

By: raktim tiwari

Published: 03 Mar 2019, 03:12 PM IST

अजमेर.

शहर में 13 इमारतों के व्यावसायिक नक्शे पास करने को लेकर नगर निगम में छिड़ा घमासान थमने की बजाय अब बढ़ता जा रहा है। नगर निगम की एम्पावर्ड कमेटी व साधारण सभा में पास होने के बावजूद निगम आयुक्त ने अपनी विसम्मति (डिसेंट नोट) अंकित कर दी है। इसके अलावा साधारण सभा में पास किए गए प्रस्ताव संख्या 6 व 7 सफाई सम्बन्धी ठेकों के बीटों व मशीनों के भुगतान का स्पष्ट उल्लेख नहीं होने के कारण डिसेंट नोट लगाया गया है।

सरकार को भेजा जाएगा प्रस्ताव
प्रस्ताव को महापौर के पास हस्ताक्षर के लिए भेजा गया है। महापौर के हस्ताक्षर के बाद अब मामला सरकार को भेजा जाएगा। सरकार ही इस पर निर्णय लेगी की कौन सही है। महापौर का मानना है कि जहां साधारण सभा तथा एम्पावर्ड कमेटी को अधिकार है कि वह नक्शा पास करे अथवा निरस्त करे। कमिश्नर को नक्शा पास करने का अधिकार भी साधारण सभा ने दिया है। साधारण सभा में आयुक्त से नक्शा पास करने का अधिकार छीनते हुए यह अधिकार उपायुक्त को दे दिए गए थे।

यह दिया आधार
निगम आयुक्त का मानना है कि नगर पालिका एक्ट 2009 की धारा 194,73 (भूमि निष्पादन के प्रकरण के सम्बन्ध में) के तहत राज्य सरकार ने कमिश्नर को नक्शा पास करने की पावर दे रखी है। व्यावसायिक नक्शे पास करने का अधिकार आयुक्त से नहीं छीना जा सकता है। कमिश्नर ही सर्वोपरि है। जो 13 नक्शे पास किए गए हैं उनकी तकनीकी जांच नहीं की गई है। एसटीपी की भी राय नहीं ली गई है। सदन में नक्शों के सम्बन्ध में पार्षदों को इसकी जानकारी नहीं दी गई है।

आयुक्त का अधिकार उपायुक्त को दिया जाना भी गलत है। इसके अलावा साधारण सभा में पास किए गए प्रस्ताव संख्या 6 व 7 सम्बन्धित ठेकङ्क्ष के बीटों व मशीनों को किस अनुपात में भुगतान किया जाना है इसका स्पष्ट उल्लेख नहीं है निविदा शर्तों में परिवर्तन के लिए साधारण सभा सामान्यत: अधिकृत नहीं है। साधारण सभा में निविदा शर्तो में परिवर्तन किया गया है। हाल ही आयोजित साधारण सभा में प्रस्ताव रखे जाने से पूर्व भी वर्तमान आयुक्त ने जांच कमेटी गठित की थी लेकिन रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है।

इनके नक्शों को लेकर घमासान
पूनम व अन्य केसरगंज, ईश्वरी देवी केसरगंज, मयंक खंडेलवाल केसरगंज,नंदलाल धानमंडी, सुनील सेठी महावीर सर्किल दौलत बाग, रमेश हेमवानी ब्ल कैसल, अनूप कुबेरा पुरानी मंडी, ललित गुप्ता रामगंज, भगवान सिंह चौहान, नारायण दास लोहागल, उमराव कंवर आगरा गेट, ओम प्रकाश माहेशवरी आगरा गेट के पूर्व में पास हुए नक्शों को लेकर घमासान मचा हुआ है। इनमें से कई नक्शे नियमों के विपरीत पास हुए हैं।

कलक्टर ने दिए जांच के निर्देश
नक्शा विवाद को लेकर राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित सिलसिलेवार समाचारों को गंभीरता से लेते हुए जिला कलक्टर विश्व मोहन शर्मा ने मामले की जांच करने के लिए एडीएम, एसडीएम, वरिष्ठ नगर निगम योजक, अधीक्षण अभियंता नगर निगम तथा डीएलआर नगर निगम की कमेटी गठित कर दी है। इससे पूर्व 22 फरवरी को भी कलक्टर ने निगम आयुक्त को मामले की जांच कर दो दिन में रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए थे।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned