Nagar Nigam : कोरोना योद्धाओं के स्वास्थ्य से खिलवाड़

नालों की सफाई में मास्क, दस्ताने और गमबूट का नहीं उपयोग

ठेकेदार नहीं दे रहा ध्यान, नालों की मैन्युअल कराई जा रही सफाई

By: himanshu dhawal

Published: 14 Jun 2020, 05:14 PM IST

हिमांशु धवल
अजमेर. कोरोना संक्रमण के दौरान योद्धाओं की तरह साफ-सफाई के काम में जुटे सफाईकर्मियों की सेहत से खिलवाड़ हो रहा है। मानसून से पहले नगर निगम की ओर से शहर भर के नालों की करवाई जा रही सफाई में लगे कर्मचारी नालों में उतर कर बगैर मास्क, दस्ताने और गमबूट पहने नालों की सफाई में जुटे हुए हैं। हालांकि इन्हें यह साजो-सामान मुहैया करवाने की जिम्मेदारी संबंधित ठेकेदार की होती। लेकिन उसके द्वारा ऐसा नहीं किए जाने पर नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारी भी चुप्पी साधे बैठे हैं। नगर निगम की ओर से प्रतिवर्ष मानसून से पहले नालों की सफाई करवाई जाती है। जिससे बारिश के पानी की निकासी सहजता से हो सके। निगम स्तर पर और ठेकेदार के माध्यम से नालों की सफाई कराई जा रही है। इसमें दो फीट से अधिक चौड़े नालों की सफाई सफाईकर्मचारियों से कराई जा रही है। सफाई में लगे ठेकेदार के कर्मचारी दो-दो फीट के नाले में उतरकर सफाई कर रहे हैं। लेकिन सफाई कार्य के दौरान उन्होंने दस्ताने, मास्क और गमबूट तक नहीं पहन रखे हैं। इससे संक्रमण का खतरा हर वक्त बना रहता है। इसके बावजूद इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। वर्तमान में बड़े नालों की भी पोकलेन, जेसीबी मशीन से सफाई कार्य जारी है।

ठेकेदार की है जिम्मेदारी

निगम प्रशासन के अनुसार सफाईकर्मियों को सफाई कार्य के दौरान मास्क, ग्लव्ज व गमबूट उपलब्ध करवाने की जिम्मेदारी ठेकेदार की होती है। हालांकि ऐसा नहीं करने पर निगम की ओर से उसके विरुद्ध नोटिस आदि की कार्यवाही किए जाने का प्रावधान है। लेकिन इन दिनों चल रहे सफाई कार्य की जानकारी निगम के अफसरों को होने के बावजूद उन्होंने भी सफाईकर्मियों की इस मामले में कोई सुध नहीं ली है।
यह होती है परेशानी

- नाले ढके होने से घुसकर करना पड़ता है काम
- नालों पर पक्का निर्माण कर कब्जे करने के कारण

- दो-तीन फीट के नालों की मशीनों से नहीं होती है सफाई
होना यह चाहिए

- नालों पर फैरो कवर लगे होने चाहिएं

- हर दस फीट पर बनना चाहिए चैम्बर
- अधिकाधिक मशीनों का हो उपयोग

- सफाईकर्मी सुरक्षा उपकरण के साथ नालों में उतरें

फैक्ट फाइल
- 70 नालों की पोकलेन, जेसीबी मशीन से हो रही सफाई

- 261 नालों की सफाई सफाईकर्मियों के द्वारा होनी है

- 16 टेक्ट्ररों से मलबा हटवाया जा रहा है

इनका कहना है...

शहर के नालों की सफाई जारी है। सफाईकर्मियों को दस्ताने, मास्क और गमबूट देने की जिम्मेदारी ठेकेदार की होती है। अगर ऐसा नहीं किया जा रहा तो ठेकेदार को नोटिस देकर कार्यवाही की जाएगी।
-गजेंद्र सिंह रलावता, उपायुक्त नगर निगम, अजमेर

himanshu dhawal Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned