scriptNCERT teach cyber security and digital parenting in india | साइबर सिक्योरिटी और डिजिटल पेरेंटिंग सिखाएगा एनसीईआरटी | Patrika News

साइबर सिक्योरिटी और डिजिटल पेरेंटिंग सिखाएगा एनसीईआरटी

केंद्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी संस्थान का हुआ गठन। विद्यार्थियों और अभिभावकों को साइबर सुरक्षा, ऑनलाइन शिक्षण, डिजिटल पेरेटिंग सिखाने के लिए तैयार की पुस्तकें और सामग्री।

अजमेर

Updated: December 18, 2021 04:29:11 pm

रक्तिम तिवारी/अजमेर.

बढ़ते साइबर क्राइम और कोविड-19 में डिजिटल शिक्षण प्लेटफॉर्म को लेकर राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने नवाचार किया है। परिषद ने केंद्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिक संस्थान का गठन किया है। इसमें खासतौर पर साइबर सुरक्षा, ऑनलाइन शिक्षण पर आधारित सामग्री तैयार की गई है।
cyber security
cyber security
यूं पड़ी जरूरत
दो साल से कोविड-19 के चलते शैक्षिक परिदृश्य बदल रहा है। सीबीएसई सहित विभिन्न राज्यों से सम्बद्ध स्कूलों-कॉलेजों-यूनिवर्सिटी में ई-क्लासरूम, ऑनलाइन-डिजिटल शिक्षण की शुरुआत हो चुकी है। स्कूली बच्चे और अभिभावक साइबर क्राइम का शिकार हो रहे हैं। बढ़ती चुनौतियों के चलते एनसीईआरटी ने केंद्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिक संस्थान का गठन किया है।
तैयार की यह सामग्री
-सेफ ऑनलाइन लर्निंग इन कोविड-19
-ऑनलाइन एवं डिजिटल शिक्षण
-ई-लर्निंग की समस्याएं
-उपचारसाइबर सेफ्टी एवं सुरक्षा
-साइबर जगत में सुरक्षा और सावधानियां
-आधुनिक दौर में डिजिटल पेरेंटिंग
-साइबर सुरक्षा के दिशा

निर्देश-बालिकाओं के लिए साइबर सुरक्षा

चुनौतीपूर्ण माहौल में मिलेगी मदद: एफएक्यू
-अभिभावकों के लिए डिजिटल पेरेंटिंग आधारित किताबें
-पढ़ सकेंगे ई लर्निंग सॉफ्टवेयर से
-देख सकेंगे शैक्षिक सामग्री पर आधारित वीडियो
-सुन सकेंगे रेडियो और एफएम के लिए ऑडियो
-गीतों-कविताओं से पढ़ाएंगे विद्यार्थियों को
फैक्ट फाइल
1961में हुई एनसीईआरटी की स्थापना
5हजार से ज्यादा पुस्तकें-जर्नल करता है तैयार
32 लाख सीबीएसई के विद्यार्थी पढ़ते हैं पुस्तकें
08लाख विद्यार्थी (विभिन्न राज्य बोर्ड) पढ़ते हैं किताबें
04 लाख से ज्यादा वोकेशनल कोर्स की पुस्तकें

स्मार्ट चेयर और फीडिंग रूम से मिलेगी सुविधा
अजमेर. राजस्थान लोक सेवा आयोग परिसर काफी बदला-बदला नजर आएगा। दीवारों पर राजस्थानी संस्कृति पर आधारित चित्रकारी कराने के अलावा स्मार्ट चेयर और फीडिंग रूम जैसी सुविधाएं विकसित की गई हैं। ताकि अभ्यर्थियां को सुंदरता के साथ-साथ पर्याप्त सुविधाएं भी मिलें। 22 दिसंबर 1949 में राजस्थान लोक सेवा आयोग सेवा का गठन हुआ। इस बार यह अपनी 73 वां स्थापना दिवस मना रहा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशPunjab Assembly Election 2022: पंजाब में भगवंत मान होंगे 'आप' का सीएम चेहरा, 93.3 फीसदी लोगों ने बताया अपनी पसंदUttarakhand Election 2022: हरक सिंह रावत को लेकर कांग्रेस में विवाद, हरीश रावत ने आलाकमान के सामने जताया विरोधUP Election 2022 : अखिलेश के अन्न संकल्प के बाद भाकियू अध्‍यक्ष का यू टर्न, फिर किया सपा-रालोद गठबंधन के समर्थन का ऐलानभारत के कोरोना मामलों में आई गिरावट, पर डरा रहा पॉजिटिविटी रेटIndian Railways: स्टेशन पर थूकने वाले हो जाएं सावधान, रेलवे में तैयार किया ये खास प्लानमशहूर कार्टूनिस्ट नारायण देबनाथ का निधन, सीएम ममता बनर्जी ने जताया शोककौन हैं भगवंत मान, जाने सबकुछ
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.