scriptNegligence everywhere in the micro-containment zone | माइक्रो कंटेनमेंट जोन में हर ओर लापरवाही! | Patrika News

माइक्रो कंटेनमेंट जोन में हर ओर लापरवाही!

ओमिक्रॉन संक्रमण मरीज के घर के आसपास के बरती जा रही लापरवाही, बेखौफ होकर गली में साइकिलें दौड़ा रहे बच्चे, अभिभावक भी नहीं कर रहे जागरूक

अजमेर

Published: December 25, 2021 02:49:18 am

अजमेर. घनी आबादी के बीच पीडि़त के घर के बाहर आवाजाही रोकने को लगी बल्लियां, पास ही मकान के बाहर खड़ी कार और गली में बेखौफ साइकिल चलाते बच्चे, मोटरसाइकिल पर बिना मास्क लगाए निकलते युवक खुद संक्रमण को न्यौता देते मिले। आसपास के घरों के दरवाजे बंद तो एक युवक गेट खोल बाहर झांकता मिला तो कोई खिड़की के अंदर से झांकता मिला। यह हालात चन्द्रवरदाईनगर स्थित नवदुर्गा कॉलोनी के नजर आए। जहां ओमिक्रॉन का पहला मामला चिह्नित हुआ है।
माइक्रो कंटेनमेंट जोन में हर ओर लापरवाही!
माइक्रो कंटेनमेंट जोन में हर ओर लापरवाही!
यहां पश्चिमी अफ्रीका के घाना देश से आए 28 वर्षीय युवक की ओमिक्रॉन की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जिला प्रशासन की ओर से माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया। पत्रिका की ओर से जब कंटेनमेंट जोन के हालात जाने तो सामने आया कि कई लोग लापरवाही बरत रहे हैं। बिना मास्क के घूमते कुछ लोगों ने बाद में गमछा या रुमाल को मास्क के विकल्प के रूप में लगाने का प्रयास किया।
पास की गली में बिना मास्क के बच्चों का झुंड

नवदुर्गा कॉलोनी में संक्रमित युवक के घर के पास की गली में आठ- दस बच्चे दोपहर करीब 3.30 बजे बिना मास्क लगाए खेलते मिले। एक बुजुर्ग महिला ने फोटो खींचने पर पूछा और जब बच्चों को मास्क लगाने की हिदायत को कहा तो तत्काल उन्होंने बच्चों को घरों में भेजा और मास्क लगाने को कहा। यहां तक बुजुर्ग महिला भी मास्क लगाए बैठी मिली। गली के मुहाने पर निर्माण करते कारीगर, मजदूर भी बिना मास्क लगाए मिले।
कॉलोनी में दो दिन से नजर आया बदलाव . . .

पत्रिका से बातचीत में एक दम्पती ने बताया कि पहले लोग, महिलाएं घरों के बाहर बैठते थे, बातें करते थे, बच्चे बाहर खेलते थे लेकिन ओमिक्रॉन की सूचना मिलने के बाद अब लोग घरों में रह रहे हैं, मास्क लगा रहे हैं। उन्होंने परिजन की ओर से लापरवाही बरतने पर नाराजगी जताई।
दिन में एक बार हाइपोक्लोराइड का स्प्रे

क्षेत्रवासियों ने बताया कि दो दिनों से दोपहर में नगर निगम की गाड़ी आती है और हाइपो क्लोराइड का स्प्रे करके जाती है। हालांकि सफाई व्यवस्था माकूल नहीं है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.