ajmer dargah news : खुला जन्नती दरवाजा, आम जायरीन नहीं कर सकेंगे जियारत

ajmer dargah news : सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के गुरु हजरत ख्वाजा उस्मान हारुनी का दो दिवसीय उर्स शुक्रवार से शुरू हो गया। उर्स के मौके पर शनिवार तड़के दरगाह स्थित जन्नती दरवाजा भी खोला गया है।

By: Yuglesh kumar Sharma

Updated: 30 May 2020, 02:30 AM IST

अजमेर. सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के गुरु हजरत ख्वाजा उस्मान हारुनी (khwaza usman haruni) का दो दिवसीय उर्स शुक्रवार से शुरू हो गया। उर्स के मौके पर शनिवार तड़के दरगाह (dargah) स्थित जन्नती दरवाजा भी खोला गया है। कोरोना महामारी के कारण यह पहला मौका है जब ख्वाजा उस्मान हारूनी के उर्स में जायरीन शिरकत नहीं कर सके। केवल पासधारी चुनिंदा लोगों को ही दरगाह में प्रवेश दिया गया।

गौरतलब है कि हर साल हारूनी के उर्स में एक लाख से अधिक जायरीन शिरकत करते हैं। इस बार लॉकडाउन के चलते 20 मार्च से ही दरगाह में आम जायरीन का प्रवेश बंद है। उर्स की धार्मिक रस्मों के तहत शुक्रवार रात दरगाह स्थित महफिलखाने में उर्स की महफिल हुई। दूसरे दिन शनिवार तड़के 4 बजे जन्नती दरवाजा खोला गया जो कि दोपहर 2.30 बजे तक खुला रहेगा। शनिवार को सुबह नौ बजे ख्वाजा साहब की महाना छठी के मौके पर दुआ होगी। दोपहर में कुल की रस्म के साथ उर्स सम्पन्न होगा।

ख्वाजा मोइनुद्दीन प्यारा बनड़ा...

दरगाह में शुक्रवार रात औपचारिक महफिल हुई। इसमें शाही चौकी के कव्वाल असलम हुसैन व अमजद हुसैन आदि ने ख्वाजा मोइनुद्दीन प्यारा बनड़ा, मुख से घुंघट खोले...जैसी कव्वालियां पेश की। आमतौर पर कव्वालियों का कार्यक्रम रातभर चलता है और अकीदतमंद झूमते रहते हैं लेकिन इस बार महफिलखाना खाली-खाली सा नजर आया। कुछेक कव्वाल और कुछेक लोग ही मौजूद रहे। सोशल डिस्टेंस की पालना करते हुए रस्म अदायगी की गई।

Show More
Yuglesh kumar Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned