Operation: अचानक सेंट्रल जेल पहुंचे अफसर, यूं चलाया सर्च ऑपरेशन

सर्च अभियान में टीम ने बैरकों के फर्श, दरवाजे और अन्य स्थानों का खासतौर पर निरीक्षण किया। इसके अलावा टॉयलेट की भी तलाशी ली गई।

By: raktim tiwari

Published: 05 Apr 2021, 08:53 AM IST

अजमेर.

सेंट्रल जेल में पुलिस और प्रशासनिक टीम ने आकस्मिक जांच की। कलक्टर प्रकाश राजपुरोहित और एसपी जगदीशचंद्र शर्मा के निर्देश पर पुलिस ने जेल में विभिन्न बैरक और अन्य स्थानों की तलाश ली। इस दौरान कोई मोबाइल, सिम अथवा अन्य प्रतिबंधित सामग्री नहीं मिली।

कलक्टर और एसपी के निर्देश पर सीओ नॉर्थ डॉ. प्रियंका रघुवंशी, एसडीएम अवधेश मीणा के नेतृत्व में सिविल लाइंस, कोतवाली, क्रिश्चयनगंज और अन्य थाना पुलिस टीम सेंट्रल जेल पहुंची।

बैरक-टॉयलेट की तलाश

पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की टीम ने जेल में बैरकों की तलाश ली। खासतौर पर मोबाइल, सिम और अन्य प्रतिबंधित सामग्री को तलाशा गया। करीब 2 घंटे तक चले सर्च अभियान में टीम ने बैरकों के फर्श, दरवाजे और अन्य स्थानों का खासतौर पर निरीक्षण किया। इसके अलावा टॉयलेट की भी तलाशी ली गई।

बंदियों तक पहुंचता रहा है सामान
जेल में बंदियों को चोरी-छुपे प्रतिबंधित सामग्री मुहैया कराई जाती रही है। इनमें मोबाइल, सिम, गुटखे, सिगरेट, जर्दे की पुडिय़ा और अन्य सामग्री शामिल है। जेल में तलाशी के दौरान यह सामान बरामद होता रहा है। बीते मार्च में महिला प्रहरी बीना मीणा सेनेटरी पैड में तंबाकू की दो पुडिय़ा लेकर पहुंची थी। इस पर मीणा को निलंबित किया गया था।

हो चुकी है एसीबी की कार्रवाई
सेंट्रल जेल में संचालित सुविधा शुल्क के खेल पर साल 2019 में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने कार्रवाई की थी। इस मामले में 4 जेल कर्मचारी, एक पैरोल पर छूटा सजायाफ्ता कैदी, उनके दो परिजन समेत 7 जनों को गिरफ्तार किया गया था। वसूली के खेल में लगे सजायाफ्ता बंदी हर महीने करीब 100 से 150 बंदियों से वसूली करते थे।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned