नहीं कर सकेंगे कॉलेज-यूनिवर्सिटी ये काम, वरना हो सकता है ये एक्शन

www.patrika.com/rajasthan-news

By: raktim tiwari

Published: 04 Apr 2019, 07:44 AM IST

अजमेर.

कॉलेज और यूनिवर्सिटी प्रवेश के वक्त विद्यार्थियों के मूल शैक्षिक दस्तावेज नहीं ले सकेंगे। विद्यार्थी स्व प्रमाणित दस्तावेजों की फोटो कॉपी दे सकेंगे। मूल दस्तावेजों की जांच काउंसलिंग या अंतिम प्रवेश प्रक्रिया पर होगी। इसके अलावा संस्थाएं दाखिले के समय जमा कराई गई पूरी फीस भी नहीं हड़प सकेंगी। यूजीसी ने इसके निर्देश जारी कर दिए हैं।

कई कॉलेज और यूनिवर्सिटी विद्यार्थियों से प्रवेश फार्म के वक्त मूल शैक्षिक दस्तावेज जमा कराने को बाध्य करते हैं। इससे विद्यार्थी दूसरे पाठ्यक्रम अथवा संस्थाओं में आवेदन और नौकरी लगने पर दस्तावेज पेश नहीं कर पाते। यूजीसी ने विद्यार्थियों की परेशानियों को देखते हुए प्रक्रिया में तब्दीली की है।

नहीं करेंगे दस्तावेज देने के लिए बाध्य

इसके निर्देश में कहा गया है कि संस्थान प्रवेश फार्म के साथ विद्यार्थियों की मूल अंकतालिका, स्कूल की टीसी, प्रमाण पत्र, व्यक्तिगत प्रमाण पत्र और अन्य दस्तावेज देने के लिए बाध्य नहीं करेंगे। अंकतालिकाओं और प्रमाण पत्रों को विद्यार्थी स्वयं प्रमाणित कर प्रस्तुत कर सकेंगे। काउंसलिंग अथवा सत्यापन की आवश्यकता पडऩे पर संस्थाएं विद्यार्थियों से मूल दस्तावेज मंगवा सकेंगी।

एक साथ नहीं वसूलें पूरी फीस
किसी कोर्स में दाखिले नहीं लेने पर कई कॉलेज और विश्वविद्यालय विद्यार्थियों की पूरी फीस हड़प लेते हैं। इससे विद्यार्थियों को नुकसान होता है। यूजीसी ने कॉलेज और विश्वविद्यालयों की इस प्रवृत्ति पर अंकुश लगाया है। यूजीसी के अनुसार कोई संस्था एक सत्र में संचालित सेमेस्टर अथवा पाठ्यक्रम की फीस ही वसूल सकेगी। पूरे कोर्स (प्रथम से तृतीय वर्ष अथवा स्नातकोत्तर पूर्वाद्र्ध और उत्तर्राद्र्ध) की फीस एक साथ नहीं ली जा सकेगी।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned