scriptpatients not getting proper treatment on time in jln hospital | भगवान भरोसे इस जिले का सबसे बड़ा अस्पताल , मरीजों को इलाज के लिए दिनभर लगाने पड़ते हैं यहां डॉक्टर के चक्कर | Patrika News

भगवान भरोसे इस जिले का सबसे बड़ा अस्पताल , मरीजों को इलाज के लिए दिनभर लगाने पड़ते हैं यहां डॉक्टर के चक्कर

जवाहर लाल नेहरू अस्पताल में मरीजों की जांच, परामर्श एवं लैब में जांच के सेम्पल देने तक का काम एक दिन में संभव नहीं हो पा रहा है।

अजमेर

Published: April 03, 2019 04:29:37 pm

अजमेर. जवाहर लाल नेहरू अस्पताल में मरीजों की जांच, परामर्श एवं लैब में जांच के सेम्पल देने तक का काम एक दिन में संभव नहीं हो पा रहा है। अस्पताल की कुछ लम्बे समय से चल रही व्यवस्थाओं के ही मरीज शिकार हो रहे हैं। खासकर वे मरीज जो सुबह 11.30 से 12 बजे अस्पताल पहुंचते हैं। इन मरीजों के रक्त सहित अन्य जांचों के लिए दूसरे दिन फिर अस्पताल पहुंचना पड़ता है।
patients not getting proper treatment on time in jln hospital
 

अस्पताल में मरीजों की कतारों को चीरते हुए बमुश्किल चिकित्सक के कक्ष में पहुंचते-पहुंचते कई मरीजों को दोपहर एक भी बज जाते हैं। गर्मी में आउटडोर का समय दोपहर 2 बजे तक हैं। आउटडोर में चिकित्सकों की ओर से मरीज की जांच व परामर्श के बाद रक्त एवं अन्य जांचों के लिए पर्ची लिखी जाती है। और पर्ची लेकर जब मरीज लैब तक पहुंचते हैं तो बताया जाता है कि सेम्पल लेने का समय खत्म हो गया है इसलिए कल सुबह आना।
 

ऐसे में मरीजों को सिर्फ जांच के सेम्पल के लिए शहर के दूसरे कोने से अस्पताल आना पड़ता है, जांच करवाने के बाद फिर शाम को 5 बजे जांच रिपोर्ट लेने आना पड़ता है। ऐसे में अस्पताल के तीन से अधिक बार चक्कर लगाने पड़ते हैं। भगवानगंज निवासी सोनू ने बताया कि उसे बुखार है और खून का सेम्पल बुधवार को देने को कहा है। वहीं सेम्पल के लिए घूमती मुन्नी ने बताया कि पूरा दिन भर खराब हो गया मगर जांच के लिए बुधवार को आने को कहा है।
 

यह हो सुधार

ओपीडी मरीजों के सेम्पल लेने का समय भी दोपहर 2 बजे तक होना चाहिए, ताकि सैन्ट्रल लैब में सेम्पल देकर मरीज चला जाए, भले ही जांच शाम को हो चाहे रात्रि में, मगर मरीजों को राहत मिलने के लिए अस्पताल प्रशासन को कदम उठाने चाहिए।
 

रूटीन मरीजों के जांच सेम्पल लेने का समय सुबह 9 से दोपहर 1 बजे तक निर्धारित है। इसके बाद दो से तीन घंटे प्रोसेसिंग में समय लगता है। इमरजेंसी केस के सेम्पल हर समय लिए जाते हैं।
-डॉ. अनिल जैन, अधीक्षक जेएलएनएच

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

Assam Flood: असम में बारिश और बाढ़ से भीषण तबाही, स्टेशन डूबे, पानी के बहाव में ट्रेन तक पलटीराजस्थान BJP में सियासी रार तेज: वसुंधरा ने शायरी से साधा निशाना... जिन पत्थरों को हमने दी थीं धड़कनें, वो आज हम पर बरस...कांग्रेस के बाद अब 20 मई को जयपुर में भाजपा की राष्ट्रीय बैठक, ये रहा पूरा कार्यक्रमTRAI के सिल्वर जुबली प्रोग्राम में PM मोदी ने लॉन्च किया 5G टेस्ट बेड, बोले- इससे आएंगे सकारात्मक बदलावपूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टपूनियां हत्याकांड में बड़ा अपडेट : चौथे दिन भी नहीं हुआ पोस्टमार्टम, शव उठाने को लेकर मृतक के भाई के घर पर चस्पा किया नोटिस
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.