एसीबी टीम के हाथों 16 हजार की घूस लेता विद्युतकर्मी गिरफ्तार,जांच में आरोप की पुष्टि होने के बाद कार्रवाई

घरेलू बिजली कनेक्शन विच्छेद की रिपोर्ट के बदले ली थी रिश्वत, आरोपी ने फरियादी को कई लगवाए चक्कर, एसीबी की कार्रवाई की भनक लगते ही सतर्क हो गए आरोपी

By: suresh bharti

Published: 03 Jul 2021, 10:59 PM IST

Ajmer अजमेर/सपोटरा (करौली). भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने एक उपभोक्ता का घरेलू विद्युत कनेक्शन विच्छेद कराने के लिए सत्यापन रिपोर्ट के बदले 16 हजार रुपए की रिश्वत लेते एक विद्युतकर्मी को शनिवार को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरसिंह मीणा ने बताया कि चारी की नरौली निवासी गुरुचरण बैरवा बीते एक वर्ष से कैलादेवी जाकर रहने लगा था। इसके चलते वह चीरकी नरौली के अपने घरेलू बिजली कनेक्शन को विच्छेद कराना चाहता था। उसने एक वर्ष के बिल की बकाया राशि भी जमा करा दी थी। इससे आगे की प्रक्रिया में वह मकान पर ताला लगे होने की सत्यापन रिपोर्ट कराना चाहता था, जिसके लिए काफी समय से तकनीकी सहायक लक्ष्मीराज मीणा के चक्कर लगा रहा था।

बीस हजार मांगे थे
आरोप है कि लक्ष्मीराज ने उससे सत्यापन रिपोर्ट के बदले में 20 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। मामले में दोनों के बीच 16 हजार रुपए पर सहमति हो गई थी। आरोपी लक्ष्मीराज ने परिवादी को रिश्वत की राशि लेकर अपने गांव रामठरा बुलाया था। शनिवार को परिवादी गुरुचरण ने जैसे ही आरोपी को रुपए सौंपे। तभी एसीबी की टीम ने आकर उसे दबोच लिया। इससे पहले उसने घूस की रकम लेकर एक नोटबुक में रख ली। तभी एसीबी टीम ने जाकर पकड़ लिया। अमरसिंह ने बताया कि बाद में आरोपी को सपोटरा थाने पर ले आए। वहां आरोपी से पूछताछ और परिवादी के बयानों की औपचारिकता की गई। रिश्वत की राशि को सीलबंद कर दिया गया।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले सपोटरा में 18 दिसम्बर को पुलिस थाने के हैड कांस्टेबल बच्चूसिंह को तीन हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़ा जा चुका है।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned