पुलिस और प्रशासन ने की उपेक्षा, लगाया हाइवे पर जाम

कंचनपुर थाने के गांव अब्दुलपुर में रामेश्वर जाटव की हत्या का मामला, -धौलपुर-करौली मार्ग रहा एक घंटे जाम

जिले के कंचनपुर थाना इलाके के गांव अब्दुलपुर में रामेश्वर जाटव की हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग पर चार दिन से जिला कलक्ट्रेट के बाहर परिजनों ने कोई सुनवाई नहीं होने से नाराज होकर सोमवार को धौलपुर-करौली राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगा दिया।

By: Dilip

Updated: 29 Jun 2021, 12:46 AM IST

धौलपुर. जिले के कंचनपुर थाना इलाके के गांव अब्दुलपुर में रामेश्वर जाटव की हत्या के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग पर चार दिन से जिला कलक्ट्रेट के बाहर परिजनों ने कोई सुनवाई नहीं होने से नाराज होकर सोमवार को धौलपुर-करौली राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगा दिया। हाइवे पर दोनों ओर वाहनों की लम्बी कतारें लग गई। करीब 1 घंटे की अधिकारियों की समझाइश के बाद मृतक के परिजन हाइवे को छोड़कर एक बार फिर से जिला कलक्ट्रेट पर धरने पर बैठ गए। हाइवे जाम लगाने वाले लोगों ने बताया कि गत 29 अप्र्रेल को गांव अब्दुलपुर में कुछ दबंगों ने गांव के ही रामेश्वर जाटव के साथ लाठी डंडों से मारपीट करते ह़ुए धारदार हथियारों से हमला कर दिया।

घटना में घायल रामेश्वर की इलाज के दौरान मौत हो गई। घटना के संबंध में मृतक के परिजन ने कंचनपुर थाने पर आरोपियों को नामजद करते हुए मामला दर्ज कराया। मामले में पुलिस ने नामजद तीन जनों को गिरफ्तार कर लिया। जबकि अन्य आरोपी अभी तक पुलिस की पकड़ से बाहर बने हुए है।

मामले में फरार आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर मृतक के परिजन ने जिला कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल को 3 सूत्रीय ज्ञापन दिया था लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होने के बाद इन मांगों को लेकर मृतक परिजन कलक्ट्रेट धौलपुर पर धरने पर बैठ गए। चार दिनों तक किसी भी पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने ध्यान नहीं दिया। इस बात से नाराज परिजन एकत्र होकर सोमवार सुबह धौलपुर-करौली राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहुंच गए और जाम लगा दिया। वाहनों की दोनों ओर लंबी कतारें लग गई। इस दौरान धरने पर बैठे लोगों ने जिला कलक्टर एवं पुलिस अधीक्षक के खिलाफ नारेबाजी भी की।

मामले की सूचना मिलते ही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बचन सिंह मीणा, धौलपुर एसडीएम भारती भारद्वाज, तहसील भगवतशरण त्यागी, सीओ सिटी प्रवेंद्र महला, कोतवाली थाना प्रभारी राजेश पाठक, सदर थाना प्रभारी रमेश तंवर सहित भारी पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंचा। करीब एक घंटे तक समझाइश का दौर चला और एडिशनल एसपी बचन सिंह मीणा ने आरोपियों को जल्दी ही गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। वे हाईवे से धरने से हट गए लेकिन कलेक्ट्रेट पर फिर धरने पर बैठ गए। पीडि़त परिवार की मांग है कि घटना में गिरफ्तारी से शेष रहे आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाए, परिवार की सुरक्षा के लिए लाइसेंसी हथियार दिए जाएं तथा पीड़ीत परिवार के लालन पालन के लिए मुआवजा दिया जाए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned