चप्पल के तले में मोबाइल व चार्जर छिपा कर ले जा रहा था वो, आप भी पढ़े इस शातिर की इस खतरनाक कारनामों को

अलवर गेट थाना पुलिस के हत्थे चढ़े एक स्थायी वारंटी ने सेंट्रल जेल भेजे जाने पर चप्पल के तले में मोबाइल फोन व चार्जर छुपा कर ले जाने की कोशिश की।

By: Manish Singh

Published: 22 Aug 2017, 03:01 PM IST

 

 अलवर गेट थाना पुलिस के हत्थे चढ़े एक स्थायी वारंटी ने सेंट्रल जेल भेजे जाने पर चप्पल के तले में मोबाइल फोन व चार्जर छुपा कर ले जाने की कोशिश की। जेल सुरक्षा में तैनात आरएसी के दीवान की नजर उसकी चाल और चप्पल पर पड़ गई। तलाशी में चप्पल से मोबाइल और चार्जर बरामद किए। सिविल लाइंस थाना पुलिस ने आरोपित बंदी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

 

अलवर गेट थाना पुलिस ने मदार जेपी नगर डबल स्टोरी निवासी स्थायी वारंटी शंकर उर्फ श्योकी उर्फ भगवान दास पुत्र मोहनदास सिंधी को कोटा से गिरफ्तार किया था। अदालत ने श्योकी को जेल भेज दिया। जेल मुख्यद्वार पर तलाशी की सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद वह अन्दर जाने लगा तो आरएसी के दीवान अजीज खान को उसकी चाल और चप्पल पर शक गहरा गया।

 

उन्होंने उसे तुरन्त रोक जेल उप कारापाल श्योजीराम मीमा के समक्ष शक जाहिर किया। मीणा ने श्योकी की दुबारा गहनता से तलाशी लेने को कहा। एचएमडी से तलाशी के बाद भी जब कुछ नहीं मिला तो खान ने चप्पल की जांच की तो उसके तले की सिलाई की हुई थी।

 

चप्पल के सोल को दबाने पर भीतर कुछ होने का अंदेशा हुआ। चप्पल के सोल पर लगी सिलाई काटी गई तो भीतर मोबाइल फोन और चार्जर छुपा हुआ मिला। दूसरी चप्पल में भी मोबाइल व चार्जर की बरामदगी की गई। जेल अधीक्षक संजय यादव ने मामले में सिविल लाइन्स थाने में राजस्थान बंदी अधिनियम ४२, ४५ में प्रकरण दर्ज करवाया।
एमटीएस कम्पनी के है मोबाइल श्योकी की चप्पल से बरामद दोनों मोबाइल एमटीएस कम्पनी के है।

 

खास बात यह है कि चप्पल के आगे के हिस्से में चार्जर छिपाया हुआ था। चार्जर इतना पतला और जुगाड़ से बना हुआ था ताकि जेल के भीतर मोबाइल और चार्जर ले जाने में तकलीफ ना हो। बिना सह पर नहीं काम!

पुलिस अधिकारियों की माने तो श्योकी बिना किसी की शह पर मोबाइल भीतर नहीं ले सकता था। संभवत: उसके हत्थे चढ़ते ही जेल में किसी ने उसे दोनों मोबाइल लगी चप्पल पहुंचा दी। जो वह पहन के भीतर पहुंच गया। पुलिस उससे मोबाइल देने वाले व्यक्ति और भीतर जिसको पहुंचाए जाने थे उनके संबंध में पूछताछ में जुटी है।


जेल अधीक्षक की शिकायत पर बंदी श्योकी उर्फ शंकर उर्फ भगवानदास सिंधी के खिलाफ राजस्थान बंदी अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया। आरोपित की गिरफ्तार के बाद मोबाइल फोन के संबंध में गहनता से पड़ताल की जाएगी।

-करण सिंह खंगारोत, थानाप्रभारी सिविल लाइन्स

Manish Singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned