Pollution down: लॉक डाउन से कम हुआ जिले में प्रदूषण स्तर

सीमेंट और पत्थर पिसाई फैक्ट्रियों में उत्पादन हुआ बंद

raktim tiwari

25 Mar 2020, 09:40 AM IST

अजमेर.

कोरोना वायरस से बचाव के लिए हुए लॉकडाउन ने जिले के प्रदूषण को काबू में रखा। ब्यावर, पीपलाज की पत्थर, सीमेंट फैक्ट्रियों और किशनगढ़ के मार्बल यूनिट में उत्पादन नहीं हुआ। इससे अलावा ईंट-भट्टे, आयरन उद्योग भी नहीं चले। इससे प्रदूषण स्तर अन्य दिनों के अपेक्षा कम हुआ।

Read more: कोरोना लॉकडाउन : सख्ती बरत पुलिस ने करवाई पालना

जिले के ब्यावर में सीमेंट फैक्ट्रियां, पत्थर पीसने की छोटे-बड़ी इकाइयां हैं। किशनगढ़ में मार्बल-ग्रेनाइट यूनिट हैं। इनसे उत्सर्जित पाउडर और धुएं से आमदिनों में प्रदूषण रहता है। अजमेर में भी वाहनों से उत्सर्जित और आयरन उद्योग, ईंट-भट्टों से निकलने वाला धुएं से हवा प्रदूषित रहती है। जहरीला धुआं शहर की हरियाली और लोगों की सेहत बिगाड़ रहा है।

Read more: #CORONAEFFECT: Corona Virus से लड़ने के लिए महिलाएं यूँ कर रही गणगौर पूजा

जनता कफ्र्यू से मिली थी राहत
22 मार्च को जनता कफ्र्यू लगने से जिले में प्रदूषण स्तर कम था। इस दिन प्रदूषण का स्तर 97 था। जबकि 21 मार्च को यह 119 रहा था। 15 से 20 मार्च के दौरान तो जिले का प्रदूषण स्तर 122 से 127 के बीच तक रहा था। अजमेर जिले में एयर क्वालिटी इंडेक्स 20 मार्च को 85 था। 22 मार्च को यह घटकर 35 हो गया। 23 मार्च को लॉक डाउन की अवहेलना हुई तो फिर बढकऱ 55 तक पहुंच गया। 24 मार्च को सडक़ों पर वाहन कम चले तो यह घटकर 40 पर पहुंच गया। यह है

Read More: कोरोना का भय : बारात न बैण्डबाजा,बगैर घोड़ी पर बैठे तारण मार आए दूल्हेराजा

जिले में वाहनों की संख्या

वर्ष 2010-11 तक पंजीकृत वाहन-6.5 लाख

वर्ष 2019-20 तक पंजीकृत वाहन-12.6 लाख

Read more: दौरान साथी लोग ये सावधानियां बरत रह सकते है कोरोना से safe

यह प्रदूषण में यह कण होते हैं शामिल
नाइट्रोजन डाई ऑक्साइड

सल्फर डाई ऑक्साइड

कार्बन मोनो ऑक्साइड

Read more: मास्क लगाकर रखें , एक-दूसरे से टच न हों . . . .कहां करनी पड़ी ऐसी अपील-देखें वीडियो

Corona virus
raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned