थाना क्षेत्र के विवाद में दो घंटे तक शव का नहीं हो पाया पोस्टमार्टम,परिजन लगाते रहे गुहार,बाद में मामला हुआ शांत

Post-mortem of dead bodyअमृतकौर चिकित्सालय : पीसांगन क्षेत्र में करंट लगने से युवक की मौत, अमृतकौर अस्पताल में पोस्टमार्टम करने से किया इंकार, गरमाया माहौल, आखिर करना पड़ा पीएम

By: suresh bharti

Published: 09 Apr 2021, 11:52 PM IST

अजमेर/ब्यावर. राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय में शुक्रवार को मेडिकल ज्यूरिस्ट ने अन्य थाना क्षेत्र का मामला होने का हवाला देकर शव का पोस्टमार्टम करने से इंकार कर दिया। परिजन मेडिकल ज्यूरिस्ट व अस्पताल प्रशासन से दो घंटे तक पोस्टमार्टम कर शव देने की गुहार करते रहे,लेकिन अस्पताल प्रशासन का मन नहीं पसीजा। मामला बढऩे पर विधायक शंकरसिंह रावत, भाजपा देहात जिलाध्यक्ष देवीशंकर भूतडा एवं किसाान नेता भंवरलाल बूला सहित अन्य नेता अस्पताल पहुंचे। इनके हस्तक्षेप के बाद शव का पोस्टमार्टम किया गया। तब जाकर विवाद का पटाक्षेप हुआ। इससे पहले परिजन ने इस मामले को मानवाधिकार आयोग में ले जाने की चेतावनी दी।

अस्पताल लाने से पहले हो गई थी मौत

जानकारी के अनुसार शुक्रवार को अजमेर जिले के पीसांगन क्षेत्र के करनोस क्षेत्र निवासी सूरजमल कृषि कुएं पर विद्युत इंजन चलाते समय करंट से अचेत हो गया था। परिजन उसे पीसांगन लेकर ब्यावर अस्पताल आए थे। वैसे अमृतकौर चिकित्सालय लाते समय सूरजमल की रास्ते में ही मृत्यु हो गई थी।

तकरार होती रही

अस्पताल पहुंचने पर चिकित्सकों ने शव को अमृतकौर चिकित्सालय के चीरघर में रखवा दिया। पीसांगन थाना पुलिस अमृतकौर चिकित्सालय पहुंची और शव का पोस्टमार्टम कराने के लिए तहरीर दी, लेकिन मेडिकल ज्यूरिस्ट ने मामला दूसरे क्षेत्र का होने के चलते पोस्टमार्टम पीसांगन में कराने को कहा। इस बीच परिजन व अस्पताल प्रशासन के बीच तकरार होती रही। परिजन करीब दो घंटे तक अस्पताल प्रशासन से गुहार लगाते रहे, लेकिन मामले का हल नहीं निकल पया।

नेताओं के हस्तक्षेप के बाद विवाद समाप्त

इधर, जानकारी मिलने पर भंवरलाल बूला भी अस्पताल पहुंच गए। उन्होंने इस मामले को मानवाधिकार आयोग में ले जाने एवं धरना देने की चेतावनी दी। सूचना पर विधायक शंकरसिंह रावत भी अस्पताल आ गए, जिन्होंने पीएमओ डॉ. आलोक श्रीवास्तव से विवाद हल करने को कहा। भाजपा देहात जिलाध्यक्ष देवीशंकर भूतड़ा भी अस्पताल आ गए। मामला गरमाने पर आखिर शव का पोस्टमार्टम कर परिजन के सुपुर्द किया गया। इस दौरान पार्षद कुलदीप बोहरा, सुरेंद्र सोनी, गोपालसिंह रावत, बबलू चौहान,अनिल चौधरी सहित अन्य उपस्थित रहे।

विधायक रावत बोले : नहीं करेंगे बर्दाश्त

विधायक रावत ने पोस्टमार्टम नहीं करने पर नाराजगी जताकर कहा कि भविष्य में अगर एेसा मामला सामने आता है तो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जब कोई परिवार परेशानी में हैं तो उस समय सहानुभूति रखनी चाहिए। एेसे में किसी को परेशान करना गलत है।

पोस्टमार्टम के लिए मना करना गलत

दूसरी ओर डॉ. आलोक श्रीवास्तव, पीएमओ ने कहा कि बाहरी थाना क्षेत्र के अगर किसी की मृत्यु हो जाती है तो शव का पोस्टमार्टम नहीं करने जैसा कोई नियम नहीं है। मेडिकल ज्यूरिस्ट ने किस आधार पर मना किया। इसके बारे में उनसे जानकारी ली जाएगी।

करंट से किसान सूरज मल की हो गई थी मृत्यु

पीसांगन. थाना क्षेत्र के करनोस स्थित रामगढ़ में शुक्रवार को कुएं पर वाटर पंप चालू करते समय करंट की चपेट में आने से 28 वर्षीय किसान की मौत हो गई। सूचना पर अस्पताल पहुंचे हैड कांस्टेबल प्रभुराम नेहरा ने मृत किसान के भाई की रिपोर्ट पर कार्रवाई कर पोस्टमार्टम करा शव परिजन के सुपुर्द कर मामले की जांच शुरू कर दी।

थानाधिकारी प्रीति रत्नु के मुताबिक रामगढ़ निवासी शिवराज कुमावत ने रिपोर्ट में बताया कि उसका भाई सूरजमल कृषि कुएं पर फ सल की सिंचाई के लिए गया था, जहां पर वाटर पंप चलाते समय करंट की चपेट में आ गया। परिजन उसे ब्यावर अस्पताल लेकर गए,जहां स्वास्थ्य परीक्षण के बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।
शव के पोस्टमार्टम को लेकर बढ़ा विवाद,दो घंटे बाद मामला शांत

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned