टीचर बनने के लिए खास है यह परीक्षा, इसको पास किए बिना नहीं चलेगा काम

महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय फार्म की जांच में जुटा है।

By: raktim tiwari

Published: 25 Apr 2018, 08:20 AM IST

अजमेर

दो वर्षीय पीटीईटी एवं चार वर्षीय इन्टीग्रेटेड बी.ए. बी.एड./बी.एससी. बी.एड. प्रवेश पूर्व परीक्षा-2018 के ऑनलाइन फार्म भरने की प्रक्रिया पूरी हो गई है। महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय फार्म की जांच में जुटा है। यह काम जल्द पूरा हो जाएगा।

समन्वयक प्रो. बी.पी. सारस्वत ने बताया कि पीटीईटी और चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीए/बीएससी बीएड प्रवेश परीक्षा 13 मई को होगी। ऑनलाइन फार्म 24 जनवरी से भरने शुरू हुए थे। इसकी अंतिम तिथि 23 अप्रेल रखी गई थी। सीनियर सेकंडडरी की परीक्षा दे रहे अभ्यर्थियों ने बी.ए. बी.एड और बी.एससी. बी.एड. पाठ्यक्रम और स्नातक अंतिम वर्ष की परीक्षा में सम्मिलित हो रहे अभ्यर्थी ने बी.एड. पाठ्यक्रम में प्रवेश के फार्म भरे हैं। फार्म की जांच शुरू हो चुकी है।

13 मई को होगी परीक्षा
विश्वविद्यालय राज्य में दो पारियों में दो वर्षीय पीटीईटी एवं चार वर्षीय इन्टीग्रेटेड बी.ए. बी.एड./बी.एससी. बी.एड. प्रवेश पूर्व परीक्षा का आयोजन करेगा। संभवत: मई की शुरूआत में प्रवेश पत्र वेबसाइट पर अपलोड होंगे।

3 लाख से ज्यादा फार्म
विश्वविद्यालय को चार वर्षीय और दो वर्षीय बीएड कोर्स के लिए 3 लाख से ज्यादा ऑनलाइन फार्म मिलने की उम्मीद है। करीब 2.80 लाख स्टूडेंट्स ने दो
वर्षीय पीटीईटी और 65 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स ने चार वर्षीय बीएड कोर्स के लिए फार्म भरे हैं। यह संख्या पिछले साल से ज्यादा है। पिछले साल करीब 2.84 लाख स्टूडेंट्स ने पीटीईटी के एग्जाम के लिए फार्म भरे थे।

टीचर बनना पहली प्राथमिकता
प्रतिस्पर्धा के दौर में भले ही कई जॉब ऑप्शन मौजूद हों लेकिन टीचर बनना आज भी नौजवानों की पहली प्राथमिकता है। एक तो टीचिंग जॉब आसान है।
दूसरे शिक्षा विभाग से मिलने वाली गर्मियों और सर्दियों की छुट्टियां, राजकीय अवकाश, शैक्षिक सम्मेलन की छुट्टी और व्यक्तिगत आकस्मिक अवकाश जैसी सुविधाएं अन्य विभागों में नहीं हैं। इसके अलावा ज्यादातर शिक्षकों की मंशा शहरी क्षेत्र के स्कूलों में तैनाती की रहती है। शहरी क्षेत्र में निजी स्कूल होने से
सरकारी स्कूल में विद्यार्थियों की संख्या कम होती है।

इसके बाद रीट परीक्षा है खास
पीटीईटी के बाद शिक्षक बनने के लिए अभ्यर्थियों को रीट परीक्षा पास करनी जरूरी है। यह परीक्षा राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कराता है। सरकार ने रीट को
तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती की पात्रता बनाया है। इस साल बोर्ड ने 11 फरवरी को रीट परीक्षा कराई थी।

 

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned