scriptRain left in the middle, electricity is also cheating | बरसात ने मझधार में छोड़ा, बिजली भी दे रही धोखा, करोड़ों के नुकसान की आशंका | Patrika News

बरसात ने मझधार में छोड़ा, बिजली भी दे रही धोखा, करोड़ों के नुकसान की आशंका

- किसानों को झेलनी पड़ रही कुदरत और विद्युत निगम की दोहरी मार - खरीफ फसलों पर मंडरा रहा सूखने का खतरा - बाजरे में 20 से 40 फीसदी तक हो सकता है नुकसान - पानी की कमी से दाना पकने में आ रही दिक्कत - 50 हजार हेक्टेयर में चंबल की बाढ़ कर चुकी है नुकसान

अजमेर

Published: September 12, 2022 01:27:02 am

धौलपुर . मानसून सीजन की शुरुआत में जोरदार बारिश से लहलहा रही खरीफ की फसलें अब सूखने के कगार पर है। पिछले करीब 15-20 से मेघों ने धौलपुर जिले से बेरुखी बना ली है। वहीं, बिजली की कटौती से ग्रामीण क्षेत्रों में सिंचाई भी नहीं हो पा रही है। जिसका नतीजा है कि मौसम में आए बदलाव से किसानों को दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। दिन में तेज धूप के कारण जहां फसलें प्यासी हैं वहीं, अगेती फसलें झुलसने लगी हैं। नमी की कमी के कारण फसलों में दाने नहीं बन रहे हैं। फसलें रोग-कीट की चपेट में आ रही हंै। पकाव की ओर अग्रसर अगेती फसलों में दाने की गुणवत्ता प्रभावित हो गई है। कृषि विशेषज्ञों के अनुसार अगले कुछ दिन तक मौसम के इस प्रकार रहने से फसलों में नुकसान का आंकड़ा बढ़ सकता है। फसल अब पकने के कगार पर है। ऐसे में पिछले कई दिन से बारिश नहीं होने के कारण फसल नुकसान के दायरे में आ गई है। गौरतलब है कि जिले में खरीफ की बुवाई 95622 हेक्टेयर में हुई है। धौलपुर में इस बार लक्ष्य से कम बुवाई हुई है। सर्वाधिक बुवाई बाजरे की 88740 हेक्टेयर में हुई है।
बरसात ने मझधार में छोड़ा, बिजली भी दे रही धोखा, करोड़ों के नुकसान की आशंका
बरसात ने मझधार में छोड़ा, बिजली भी दे रही धोखा, करोड़ों के नुकसान की आशंका
फसलों पर असर

सिंचित क्षेत्र खरीफ की प्रमुख फसल बाजरा की अगेती बुवाई मई के अंतिम सप्ताह या जून के प्रथम सप्ताह में हुई है। मानसून की जोरदार बारिश के कारण बारानी क्षेत्र में बोया गया बाजरा बढ़ गया। इस समय बाजरा पकाव ले रहा है। अब बारिश नहीं होने के कारण बाजरे में दाने नहीं बन रहे हैं। जिससे आगामी दिनों में किसानों को चारे की किल्लत से भी रू-ब-रू होना पड़ सकता है।
भगवान के साथ निगम भी रूठा

जिले में अभी तक औसत से भी कम बारिश हुई है। वहीं, प्रदेशभर में चल रहे बिजली संकट ने किसानों की परेशानी और बढ़ा दी है। एक ओर आसमान से पानी नहीं बरस रहा वहीं, बिजली नहीं आने से किसान ट्यूबवेल आदि से सिंचाई भी नहीं कर पा रहे।
.... बस बह रहे आंसू

कुदरत और बिजली की मार के बीच किसान बस अपनी फसल का बर्बाद होता देख आंसू बहा रहा है। किसानों का कहना है कि करीब आधे जिले को चंबल की बाढ़ ने परेशान किया। अब शेष जिले में बारिश की कमी बैरन बन रही है। पानी की उपलब्धता वाले किसान भी बिजली नहीं होने से परेशान हैं।
बाढ़ से करीब 50 हजार हेक्टेयर में खराबा

चंबल में पिछले महीने आई बाढ़ से जिले में करीब 50 हजार हेक्टेयर में फसल प्रभावित हुई है। धौलपुर, राजाखेड़ा, बाड़ी और सरमथुरा क्षेत्र के सैंकड़ों गांवों में चंबल के पानी से फसल चौपट हो गई है।
मुआवजे की मांग

किसानों ने सरकार से फसल खराबे का आंकलन कर मुआवजा देने की मांग की है। प्रशासन की ओर से चंबल में आई बाढ़ से फसलों को हुए नुकसान का आंकलन किया जा रहा है।
मंडी में आने लगा बाजरा

अगेती फसल का कुछ बाजरा धौलपुर मंडी में आने लग गया है। शनिवार को करीब 80 कट्टे बाजरा मंडी में बिक्री के लिए आया। शनिवार को बाजरा का भाव 1925 रुपए रहा।
टेबल... जिले में खरीफ का आंकड़ा

फसल लक्ष्य (हेक्टेयर) बुवाई (हेक्टेयर)

बाजरा 95000 88740
चावल 1000 244

चरी 0 2027
मूंग 0 200

मोठ 0 6
अरहर 100 88

उड़द 0 90
चौला 0 13
तिल 3000 2720
मूंगफली 0 18

ग्वार 1000 335
गन्ना 0 3

कपास 0 4
अन्य 2000 1134

इनका कहना है

बरसात नहीं होने और अघोषित बिजली कटौती से फसलों पर बुरा असर पड़ रहा है। इस समय दाना पकाव की स्थिति में है और उसे पानी की जरूरत है। उत्पादन में 20 फीसदी से अधिक नुकसान हो सकता है।
- डॉ. शिवमूरत मीना, कृषि वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केेन्द्र धौलपुर

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Ankita Bhandari Murder Case: मेरा बेटा सीधा-साधा है, बीजेपी से हटाए गए विनोद आर्य ने अपने बेटे का किया बचाव'आज भी TMC के 21 विधायक संपर्क में, बस इंतजार करिए', मिथुन चक्रवर्ती ने दोहराया अपना दावाखाना वहीं पड़ा था, डॉक्युमेंट्स और सामान भी वहीं थे , लेकिन... रिसॉर्ट के स्टाफ ने बताया कैसे गायब हुई अपने कमरे से अंकिताVideo: महबूबा मुफ्ती ने किया Pakistan PM का समर्थन, जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर दिया ये बयान'PFI पर कार्रवाई करने में इतना वक्त क्यों लगा?', प्रियंका चतुर्वेदी ने कश्मीर को लेकर PM मोदी पर साधा निशाना2 खिलाड़ी जिनका करियर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बीच सीरीज में हुआ खत्म, रोहित शर्मा नहीं देंगे मौका!चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग हुए हाउस अरेस्ट! बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी के Tweet से मचा हड़कंपयुवाओं को लश्कर-ए-तैयबा और ISIS में शामिल होने को उकसा रहा था PFI, ग्लोबल फंडिंग के सबूत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.