आसमानी आफत : बिजली गिरने से मकानों में दरारें, उपकरण फुंके, बारिश का पानी घुसा

सावन और भादव में तरसाने वाले बदरा अश्विन माह में मेहरबान, कई घर-दुकानों में पानी भरने से परेशानी,आकाशीय बिजली गिरने से घरों में हुआ नुकसान,अजमेर जिले का बीसलपुर बांध अभी खाली

By: suresh bharti

Updated: 05 Sep 2020, 12:06 AM IST

अजमेर/झुंझुनूं. राजस्थान में मानसून भले ही देरी से सक्रिय हुआ है। इसके बावजूद कहीं तेज तो कहीं मध्यम दर्जे की बारिश का दौर जारी है। इससे प्रमुख जलाशयों में पानी की आवक हुई है तो फसल के लिए भी मुफीद है। बारिश से झुंझुनूं जिले के चिड़ावा इलाके में घर व दुकानों में पानी घुस गया तो एक-दो स्थानों पर आकाशीय बिजली गिरने से मकानों में दरारें आ गई।

अजमेर जिले के बांदनवाड़ा क्षेत्र के ग्राम पंचायत पड़ांगा स्थित गांव साईमाला खेड़ा में बारिश के दौरान आकाशीय बिजली गिरने से चार जने झुलस गए। घर पर टीनशैड आदि क्षतिग्रस्त हो गए। अजमेर में शुक्रवार को मौसम बदला नजर आया। कहीं-कहीं हल्की फुहारें भी गिरी। धूप-छांव का दौर चला। हवा चलने से मौसम सामान्य रहा। अजमेर में सुबह 11.30 बजे शहर के जयपुर रोड, कायड़, घूघरा और आसपास के इलाकों में मामूली फुहारें गिरी। पुलिस लाइंस, सिविल लाइंस, वैशाली नगर, पंचशील इलाके में दोपहर में कुछ बूंदें टपकी।

449.5 मिलीमीटर बारिश
मौसम विभाग के अजमेर में 449.5 मिलीमीटर बरसात हुई है, लेकिन सिंचाई विभाग के लिहाज से जिले में अब तक किसी इलाके में जमकर बरसात नहीं हुई है। विभाग ने 325 मिलीमीटर बरसात ही दर्ज की है। मालूम हो कि जिले की औसत बरसात 550 मिलीमीटर है। बीसलपुर बांध में भले ही पानी की आवक जारी है,लेकिन अभी यह भराव क्षमता से खाली है।

आकाशीय बिजली गिरने से चार जने झुलस गए

बांदनवाड़ा. अजमेर जिले के ग्राम पंचायत पड़ांगा के गांव साईमाला खेड़ा में बारिश के दौरान आकाशीय बिजली गिरने से चार जने झुलस गए। घर पर लगे टीनशैड आदि क्षतिग्रस्त होकर बिखर गए। पूर्व वार्ड पंच सुरेश जांगिड़ ने बताया कि शुक्रवार को ग्राम साईमाला खेड़ा में बारिश के कारण रघुनाथ के परिवार के सदस्य घर के बाहर बरामदे में बैठे थे। इसी दौरान एकाएक तेज गर्जना के साथ आकाशीय बिजली कड़कते हुए कमरे के बाहर लगे टीनशैड पर गिरी। हादसे में सीमा पत्नी कजोड़मल (23), कजोड़मल पुत्र हरचंद (25), गुटका पुत्री रघुनाथ (16), भूली पत्नी रघुनाथ (40) व हरचंद पुत्र बरदा झुलस गए। साथ ही घर की विद्युत लाइन पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई।

चिड़ावा में जलभराव से परेशानी

झुंझुनूं जिले के चिड़ावा क्षेत्र में इस साल की पहली तेज बरसात ने हालात खराब कर दिए। गुरुवार रात करीब दो घंटे तथा शुक्रवार दिन में रुक-रुककर बरसात होने से जलभराव हो गया। तहसील कार्यालय में 164 एमएम बरसात दर्ज की गई। वहीं शहर में चार-पांच जगह बरसात से दीवारें गिरने से नुकसान हो गया। मुख्य बाजार स्थित राजकला कॉम्पलेक्स के बैसमेंट में डेढ़-दो फीट तक पानी भरने से बैसमेंट के गोदामों में रखा दुकानदारों का सामान खराब हो गया। वहीं वार्ड 29 में तीन घरों की चारदीवारी गिर गई। तीन-चार घरों में दो फीट तक पानी भरने से खाद्य पदार्थ,बिस्तर व अन्य सामान खराब हो गए।

टैंकरों से कराया पानी खाली

चिड़ावा नगर पालिका ने टैंकरों से बारिश का भरा पानी खाली करवाया। पिलानी रोड पर जलभराव के चलते वाहन चालकों को परेशानी उठानी पड़ी। इससे पहले गुरुवार रात करीब दो बजे बरसात का सिलसला शुरू हुआ जो कि करीब दो घंटे चला। कोर्ट के पास नोहरे में पानी भरने से मकानों में दरारें आ गई।

मिट्टी का कटाव होने से खेतों में भरा पानी

वार्ड नं. 17 के कुछ घरों में पानी भर गया। वार्ड नं. 29 में भी ऐसे ही हालात देखने को मिले। वार्डवासी ओपी वर्मा ने बताया कि मेवा देवी, कपिल कुमार नायक के घर दो-तीन फीट तक पानी भर गया। वहीं वार्ड में शंकरलाल कुमावत, सांवरमल कुमावत, श्यामसुंदर चेजारा के नोहरे की चारदीवारी गिर गई। सीवरेज ट्रिटमेंट प्लॉट के पास जलभराव हो गया। मिट्टी का कटाव होने से खेतों में पानी भर गया।

चारदीवारी गिरी, रास्ता बंद

उधर, पिलानी रोड पर करीब चार मीटर तक दो फीट के करीब पानी भर गया। इससे वाहन चालकों को परेशानी उठानी पड़ी। सुथरा बस्ती के पास जनाना तारत की मिट्टी की दीवार धंस गई। इसके चलते पानी रास्ते में एकत्र हो गया। पूर्व पार्षद योगेंद्र कटेवा ने बताया कि चारदीवारी तो पहले ही गिर चुकी थी। मगर मिट्टी से पानी को रोका जा रहा था। यहां पानी भर जाने से रास्ता बंद हो गया। कोर्ट रोड, मुख्य बाजार, स्टेशन रोड, झुंझुनंू रोड समेत दूसरी जगह पर भी ऐसे ही हालात नजर आए। ईओ चौधरी ने शहर का भ्रमण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। वहीं जगह-जगह टंैकर और पंपसैट लगाकर पानी खाली करवाया गया।

जाबासर में तेज बरसात से दीवार ढही

मलसीसर. क्षेत्र में शुक्रवार को सुबह से दिनभर रिमझिम बरसात का दौर जारी रहा। बादलों की आवाजाही के बीच रूक-रूक कर हुई हल्की बरसात हुई। क्षेत्र के निकटवर्ती गांव जाबासर में तेज बरसात के कारण कब्रिस्तान में भारी मात्रा में पानी जमा हो गया, जिसके कारण वहां की दीवार ढह गई। दूसरी तरफ बरसात के कारण आम रास्तों में काफी पानी जमा होने से लोगों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ा। मलसीसर में 45 एमएम बरसात दर्ज की गई।

विद्युत फिटिंग व उपकरण फुंके

चनाना. लोदीपुरा गांव में गुरुवार रात आकाशीय बिजली गिरने से भैंस की मौत हो गई। वहीं बिजली के उपकरण फुंक गए। रात में 12 बजे से 2.30 बजे तक तेज बरसात हुई। तेज गर्जना के साथ दो घरों पर बिजली गिरी, जिससे जयनारायण पायल की भैंस ने दम तोड़ दिया। ग्रामीण महेंद्र सिंह ढेबाणिया के घर के एक मकान में बिजली गिरने से फिटिंग सहित घरेलू उपकरण फुंक गए।
नवलगढ़. यहां करीब आधे घंटे तक लगातार अच्छी बरसात हुई। इससे निचले इलाके में बरसाती पानी जमा हो गया। एसडीएम कार्यालय परिसर में भी बरसाती पानी जमा होने से यहां पर आने वाले लोगों को पानी के अन्दर से आना पड़ा। वहीं तहसील के सामने रोड पर बरसाती पानी जमा होने से पैदल गुजरने वाले राहगिरों को दिक्कतें हुई।

बिजली गिरने से ऊंट की मौत

गुढ़ागौडज़ी. जाखल गांव में गुरुवार रात आकाशीय बिजली गिरने से ऊंट की मौत हो गई। पुलिस के अनुसार सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के पास ताराचंद मेघवाल के घर पर बरसात के दौरान बिजली गिरी।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned