Rajasthan-election: यूनिवर्सिटी में बढ़े शिक्षक और स्टूडेंट्स, पॉश इलाकों में होनी चाहिए parking

Rajasthan-election: यूनिवर्सिटी में बढ़े शिक्षक और स्टूडेंट्स, पॉश इलाकों में होनी चाहिए parking

raktim tiwari | Publish: Sep, 16 2018 09:11:34 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 09:11:35 PM (IST) Ajmer, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

अजमेर.

राजस्थान पत्रिका के चेन्जमेकर्स (बदलाव के नायक) रविवार को वैशाली सागर विहार कॉलोनी के शहीद भगत सिंह उद्यान में चेन्जमेकर्स और जनता ने अपना एजेन्डा तय किया। लोगों ने सबसे पहले शहर पेयजल को लेकर समस्या उठाई। इस दौरान एमडीएस यूनिवर्सिटी में शिक्षकों की कमी और विद्यार्थियों की सीमित संख्या के अलावा वैशाली नगर और अन्य पॉश इलाकों में सिकुड़ती सडक़ों पर चिंता जताई गई।

लोगों ने कहा कि राजनीतिक शून्यता के कारण अजमेर का विकास नहीं हो रहा। लोगों के बीसलपुर का पानी दूसरे शहरों को दिया गया है।इससे वर्तमान में फिर समस्या खड़ी हो गई है। इस दौरान महिला सुरक्षा, शहरी ढांचागत निर्माण, अपराध पर रोकथाम, सुरक्षा और शिक्षा सहित अन्य क्षेत्रों में कार्य की आवश्यकता बताई। सभी लोगों ने राजस्थान पत्रिका के अभियान की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि जन एजेंडा में जनता की बीच जाकर उसकी आवाज सुनी जा रही है।

बनना चाहिए बीसलपुर का विकल्प

के.के. शर्मा ने पानी की समस्या के लिए बीसलपुर बांध में नए-नए क्षेत्र जोडऩे को जिम्मेदार बताया। उन्होंने वर्षा जल संचयन करने की महती आवश्यकता बताई। आभा गांधी ने कहा कि अजमेर की प्यास बुझ नहीं रही है। दूसरे क्षेत्र जोड़े जा रहे है। यह राजनीतिक शून्यता को इंगित करता है। नीरज राठी ने कहा कि भी इसका समर्थन किया।

पॉश इलाकों के हाल खराब
डॉ. अरविंद शर्मा ने वैशाली नगर सहित अन्य क्षेत्र में बिना पार्र्किंग के व्यवसायिक निर्माण को जनता के लिए खतरा बताया। उन्होंने कहा सुदृढ ढांचागत निर्माण की व्यवस्था बनाए रखने के लिए बाहरी क्षेत्रों में हो रहे बिना पार्र्किंग निर्माण रोकने चाहिए। उन पर नियमानुसार सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह निर्माण नहीं रूके तो वैशालीनगर सहित अन्य कॉलोनियां एक दिन परकोटे जैसी हो जाएगी। सी. पी. कटारिया ने इसका समर्थन किया इस बारे में जनता को भी जागरूक होने का आह्वान किया।

पुलिस की बढ़े गश्त

एडवोकेट विवेक पाराशर ने उत्तर विधानसभा क्षेत्र में सबसे पहले तो दोनो पार्टियों को इस क्षेत्र में जातिवाद से ऊपर उठ कर टिकिट देना चाहिए। उन्होंने क्षेत्र में बढ़ती वारदातों को रोकने के लिए पुलिस की सक्रियता की जरूरत बता। चेन स्नेचिंग और चोरियों की वारदात को रोकने के लिए पुलिस को मुस्तैद करने की बात कही। इसके लिए मुखबिर तंत्र को मजबूत किया जाना चाहिए।

कॉलेज के बाहर बढ़े सुरक्षा
सबा खान के अनुसार ईव टिजिंग रोकने के लिए, गल्र्स स्कूल और कॉलेज के बाहर सुरक्षा बढ़ानी चाहिए, पार्कों, कॉलोनियों और सुनसान क्षेत्रों में सीसीटीवी कैमरे हाईे रेन्ज वाले कैमरे लगाए जाने चाहिए। चौपाटी पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम होने चाहिए।

इस अवसर पर राजेन्द्र गांधी, आनंद गौड़, प्रकाश सांखला, कन्हाराम, सबा खान, डॉ. एन माथुर, नीरज राठी सहित अन्य उपस्थित थे।

शुरू हो अजमेर-कोटा रेल रूट, केकड़ी में खुले नए कॉलेज

राजस्थान पत्रिका के ‘चेंजमेकर-बदलाव के नायक’ महाअभियान के तहत रविवार को होटल लक्ष्मी पैलेस में विशेष बैठक आयोजित की गई। इसमें लोकतंत्र में राजतंत्र की तरह व्यवहार, मादक पदार्थों के कारण बर्बाद होती युवा पीढ़ी, रोजगार के सीमित साधन, अप्रभावी कानून, भ्रष्टाचार, जातिवाद, क्षेत्रवाद, अनियोजित विकास, शिक्षा के प्रति उदासीनता, प्रशासनिक कार्य में राजनीतिक दखल, जनप्रतिनिधियों के लिए न्यूनतम शिक्षा की अनिवार्यता सहित ऐसे ही कई विषयों पर व्यापक चर्चा हुई तथा समस्याओं का समाधान सुझाने की पहल हुई। बैठक में प्रतिभागियों ने हर उस विषय पर चर्चा की जो उनके क्षेत्र, उनके राज्य व उनके देश के विकास में बाधक बन रही है। बैठक का संचालन पत्रिका प्रतिनिधि नीरज जैन ‘लोढ़ा’ ने किया। चर्चा का सारांश शिक्षाविद् प्रो. ज्ञानचन्द सुराणा ने प्रस्तुत किया।

बिना कार्ययोजना प्रगति संभव नहीं
चर्चा के दौरान प्रतिभागियों का मानना रहा कि बिना कार्ययोजना के देश, राज्य व क्षेत्र प्रगति नहीं कर सकता। व्यापक हित व समग्र दृष्टिकोण लेकर चलने पर ही विकास की सही अवधारणा साकार हो सकती है। जन एजेंडा से आने वाले कल के लिए योजना बनाने में सहायता मिल सकेगी। लोगों का मानना रहा कि किसी भी समस्या का समाधान केवल सरकार के भरोसे रहकर नहीं किया जा सकता। बल्कि उसके लिए सभी को एकजुट होकर पहल करनी होगी। लोगों ने चर्चा के दौरान आए सुझावों को राजनीतिक दलों के एजेंडे में शामिल करने का सुझाव दिया। उनका मानना रहा कि ये सुझाव प्रदेश के विकास में मील का पत्थर साबित होंगे। इसके साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव में मतदान के लिए प्रेरित करने वाला महाअभियान चलाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया। उनका मानना रहा कि शत-प्रतिशत मतदान से ही देश में सही लोगों का चयन हो सकता है व इसी से भारत निर्माण की अवधारणा साकार हो सकती है।

चर्चा का सारांश
केकड़ी में इन्डोर स्टेडियम का निर्माण हो, अजमेर-कोटा रेल सेवा शुरू हो, एकल खिडक़ी प्रणाली लागू हो, सभी तरह के सरकारी कार्यालय एक परिसर में हो, हर गांव में नन्दी गोशाला हो, किसानों को दिन में 8 घंटे बिजली मिले, रोडवेज डिपो की स्थापना हो, ट्रांसपोर्ट नगर की स्थापना हो, शिक्षा व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन हो, हर तरह के विकास में ग्रामीण क्षेत्र को भी उतना ही हिस्सा मिले जितना शहरी क्षेत्र को मिल रहा है, उपखंड स्तर पर रोजगार कार्यालय खुले, मेडिकल व इंजीनियरिंग कॉलेज खोला जाए, राजस्व अपील न्यायालय की स्थापना हो, प्राकृतिक जल संसाधनों को बचाने के लिए विशेष कार्ययोजना बनाई जाए, सार्वजनिक निर्माण कार्यों में गुणवत्ता की देखरेख के लिए सामुदायिक प्रतिनिधियों की टीम निगरानी करे, आरक्षण की व्यवस्था समाप्त हो, ठोस कचरा प्रबंधन पर कार्य योजना बने व केकड़ी जिला बने ऐसे कई सुझाव सामने आए।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned