RAS 2018: आवेदन से परिणाम तक लगे सवा दो साल

आयोग के कई तकनीकी अड़चनें सुलझाने से आरएएएस की आगामी भर्तियों में दिक्कतें कम होंगी।

By: raktim tiwari

Published: 11 Jul 2020, 07:00 AM IST

रक्तिम तिवारी/अजमेर.

आरएएस एवं अधीनस्थ सेवा भर्ती-2018 भर्ती ने आवेदन से मुख्य परीक्षा परिणाम तक सवा दो साल का सफर पूरा कर लिया। साल 2016 की भर्ती की तरह अभ्यर्थियों के साक्षात्कार और पदस्थापन देरी से होंगे। हालांकि आयोग के कई तकनीकी अड़चनें सुलझाने से आरएएएस की आगामी भर्तियों में दिक्कतें कम होंगी।

राजस्थान हाईकोर्ट की सिंगल बैंच ने पिछले साल अप्रेल में आरएएस प्रारंभिक परीक्षा-2018 के प्रश्न संख्या 11 और 22 को हटाने सहित नए सिरे से परिणाम जारी करने के आदेश दिए थे। इसके खिलाफ राजस्थान लोक सेवा आयोग ने हाईकोर्ट की खंडपीठ में याचिका दायर की। हाईकोर्ट के आदेशानुसार 25 और 26 जून को आरएएस मुख्य परीक्षा का आयोजन किया। साथ ही हाईकोर्ट के आदेशानुसार ही परिणाम जारी किया है।

यूं लगे सवा दो साल
आयोग ने 1017 पदों के लिए 11 अप्रेल 2018 को विज्ञापन मांगे थे। इनमें आरएएस के 405 पद, अधीनस्थ सेवा के 575 पद और टीएसपी क्षेत्र के 37 पद शामिल हैं। एमबीसी को 4 प्रतिशत आरक्षण देने से 34 पद बढ़ गए। अब कुल पद 1051 हो गए हैं। आयोग ने 5 अगस्त को प्रारंभिक परीक्षा कराने के बाद 23 अक्टूबर 2018 को इसका परिणाम घोषित किया था। इसके बाद अभ्यर्थियों ने प्री. परीक्षा के कट ऑफ माक्र्स, प्रश्नों को लेकर हाईकोर्ट में आपत्तियों के चलते मामला अटका रहा। बीती 30 जून को हरी झंडी मिलने के बाद भी आयोग ने मुख्य परीक्षा परिणाम 9 जुलाई को जारी किया।

बदला यह अहम नियम
सरकार ने बीती जून में आरएएस मुख्य परीक्षा के लिए आरक्षित अभ्यर्थियों को बुलाने के नियम में बदलाव किया। इसके तहत रिक्तियों की कुल अनुमानित संख्या के 15 गुना अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा में बुलाया जाएगा। मुख्य परीक्षा में उपस्थित होने वाले अभ्यर्थियों को व्यक्तित्व और मौखिक परीक्षा में उपस्थित होने के लिए प्रत्येक पेपर में न्यूनतम 10 प्रतिशत अंक और समस्त प्रश्न पत्रों के कुल अंकों में से कुल 15 प्रतिशत अंक प्राप्त करने जरूरी किए गए हैं।

अगली भर्तियों में नहीं परेशानी..
15 फीसदी गुना अभ्यर्थियों के मामले में सरकार के फैसले से आयोग की तकनीकी अड़चन दूर हुई है। 2020-21 या इसके बाद मिलने वाली आरएएस एवं अधीनस्थ सेवा भर्ती परीक्षा कराने में आयोग को परेशानी नहीं होगी। हालांकि परीक्षा संबंधित उत्तरकुंजी की आपत्तियों से आयोग हमेशा जूझता रहा है।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned