Recruitment: ट्रेक पर होंगी भर्तियां, सीएस और आरपीएससी चेयरमेन करेंगे चर्चा

खासतौर पर यूपीएससी की तर्ज पर राज्य में नियमित भर्तियां कराने पर खास चर्चा होगी। इसके अनुरूप नई भर्तियां-अभ्यर्थनाएं जारी होंगी।

By: raktim tiwari

Updated: 06 Jan 2021, 10:05 AM IST

रक्तिम तिवारी/अजमेर.

राजस्थान लोक सेवा आयोग की भर्तियों को ट्रेक पर लाने की कोशिश जारी है। मुख्य सचिव निरंजन आर्य और आयोग अध्यक्ष डॉ. भूपेंद्र यादव सहित कार्मिक विभाग के अधिकारी अगले सप्ताह इसका खाका तैयार करेंगे। खासतौर पर यूपीएससी की तर्ज पर राज्य में नियमित भर्तियां कराने पर खास चर्चा होगी। इसके अनुरूप नई भर्तियां-अभ्यर्थनाएं जारी होंगी।

आयोग ने सरकार और कार्मिक विभाग को नई भर्तियों के लिए पत्र भेजा है। इनमें भर्तियों को ट्रेक पर लाना सबसे अहम है। इसको लेकर मुख्य सचिव निरंजन आर्य, आयोग अध्यक्ष डॉ. भूपेंद्र सिंह और कार्मिक विभाग के अफसर जल्द खाका तैयार करेंग। अध्यक्ष डॉ. यादव ने सरकार आर कार्मिक विभाग के अधिकारियों से मुलाकात भी की है।

ताकि यूपीएससी की तरह हो भर्तियां
देश में भर्तियों के मामलों में यूपीएससी मॉडल माना जाता है। इसकी आईएएस एवं अधीनस्थ सेवा, एनडीए, रेलवे, आयकर और अन्य भर्तियां नियमित होती हैं। यूपीएससी प्रतिवर्ष भर्ती कलैंडर जारी करता है। कोरोना संक्रमण जैसी विशेष परिस्थितियों को छोड़कर भर्तियों की तिथियों-साक्षात्कार में कभी बदलाव नहीं होता है। राजस्थान लोक सेवा आयोग भी यूपीएससी की तरह नियमित परीक्षाएं कराना चाहता है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मुख्य सचिव आर्य भी इसके पक्षधर हैं। लिहाजा सरकार, आयोग और कार्मिक विभाग एक रोडमैप तैयार करने में जुटे हैं।

इन भर्तियों की हुई है घोषणा (बीते साल)
चिकित्सा विभाग-4,369
चिकित्सा शिक्षा विभाग-573
सहकारिता विभाग-10,000
शिक्षा विभाग-41,000
स्थानीय निकाय विभाग-1039
गृह विभाग-5000
सामान्य प्रशासन विभाग-200

आरएएस भर्ती पर हमेशा संकट
आयोग के लिए आरएएस एवं अधीनस्थ सेवा भर्ती सदैव सिरदर्द बनी है। मामले सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट तक पहुंचे हैं। आरएएस 2012 की भर्ती स्केलिंग फार्मला चर्चित रहा। आरएएस 2013 में पेपर लीक मामले के कारण परीक्षा निरस्त करनी पड़ी। आरएएस 2016 में प्री. परीक्षा स्तर पर 15 गुणा से अधिक सफल अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा से बाहर रखने का मामला हाईकोर्ट और सुप्रीाम कोर्ट पहुंचा। आरएएस 2018 में मुख्य परीक्षा में दो गुणा अभ्यर्थियों को उत्तीर्ण करने से जुड़ी कविता गोदारा की याचिका पर हाईकोर्ट ने पदों के न्यूनतम अर्हता अंक तय करने और दो गुणा अभ्यर्थियों को साक्षात्कार में बुलाने के आदेश दिए थे। साथ ही पूर्व में घोषित मुख्य परीक्षा परिणाम को रद्द किया था।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned