RPSC: कॉलेज लेक्चरर एग्जाम या टेंशन, लगाने पड़ेंगे कई चक्कर....

सहायक आचार्य भर्ती प्रतियोगी परीक्षा-2020। सम्भाग बदलने से होगी परीक्षार्थियों की होटल-धर्मशाला में रुकने पर जेब ढीली होगी।

By: raktim tiwari

Published: 16 Sep 2021, 09:34 AM IST

अजमेर. राजस्थान लोक सेवा आयोग ने सहायक आचार्य (कॉलेज शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा से पहले अभ्यर्थियों का सिरदर्द बढ़ा दिया है। अव्वल तो दूसरे शहरों में केंद्र आवंटित करने से उन्हें कई चक्कर लगाने पड़ेंगे। वहीं होटल-धर्मशाला में ठहराव पर आर्थिक चपत लगेगी।

राज्य के संभाग मुख्यालयों पर विषयवार सहायक आचार्य (कॉलेज शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा होनी है। 22 सितंबर को सुबह 10 से 12 बजे तक सामान्य ज्ञान का पेपर होगा। जबकि 23 सितंबर से 9 अक्टूबर तक विषयवार पेपर होंगे।

लगाएंगे कितने चक्कर!
दरअसल आयोग ने अभ्यर्थियों को मूल संभाग में परीक्षा केंद्र आवंटित नहीं किए हैं। ऐसे में उनकी परेशानियां बढ़ गई हैं। कई अभ्यर्थियों ने बताया कि 22 सितंबर को सामान्य ज्ञान का पेपर देने परीक्षा केंद्र जाना पड़ेगा। इसके बाद संबंधित विषय की परीक्षा देने फिर केंद्रों पर जाना होगा।

जेब करनी होगी ढीली
ट्रेन और निजी वाहन में जाने और होटल-धर्मशाला में रुकने पर जेब ढीली होगी। आयोग को कोविड-19 को देखते हुए मूल शहरों में केंद्र आवंटित करने चाहिए थे। लेकिन आयोग ने इसका ध्यान नहीं रखा है।

नकल को बनाया आधार
आयोग की मानें तो मूल संभाग अथवा जिला मुख्यालय पर केंद्र पर नकल की संभावना ज्यादा रहती है। सब इंस्पेक्टर में बीकानेर में प्रधानाचार्य-स्टाफ की लिप्तता मिली। पूर्व में वरिष्ठ अध्यापक (माध्यमिक) प्रतियोगी परीक्षा-2018 के तहत बाडमेर में वॉट्सएप पर हिंदी विषय का पेपर वायरल हुआ था। इसीलिए दूसरे शहरों में केंद्र आवंटित किए गए हैं।


भर्ती परीक्षाएं पारदर्शिता से हों यह अहम है। संभाग मुख्यालयों पर अभ्यर्थियों के केंद्र बदलने का मकसद नकल अथवा गड़बडिय़ां रोकना है। पहली भी कई परीक्षाओं में अन्यत्र केंद्र आवंटित होते रहे हैं।
डॉ. भूपेंद्र यादव, अध्यक्ष राजस्थान लोक सेवा आयोग

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned