RPSC: ऐसे बनाएंगे लेक्चरर, हिंदी के सिलेबस में ढेरों गलतियां

अभ्यर्थियों ने हिंदी के पाठ्यक्रम में कई विसंगतियां बताई हैं। इससे परीक्षार्थियों की दिक्कतें बढ़ सकती हैं।

By: raktim tiwari

Published: 24 Jan 2021, 09:19 AM IST

रक्तिम तिवारी/अजमेर.

राजस्थान लोक सेवा आयोग की सहायक आचार्य भर्ती-2020 के तहत हिंदी विषय के पाठ्यक्रम पर अभ्यर्थियों ने आपत्तियां जताई है। अभ्यर्थियों ने पाठ्यक्रम में कई विसंगतियां बताते हुए इन्हें दुरुस्त करने की मांग की है।

आयोग ने सहायक आचार्य (कॉलेज शिक्षा) भर्ती-2020 के तहत 31 विषयों के पाठ्यक्रम वेबसाइट पर अपलोड किए हैं। इनमें हिंदी विषय का पाठ्यक्रम भी शामिल है। अभ्यर्थियों ने हिंदी के पाठ्यक्रम में कई विसंगतियां बताई हैं। इससे परीक्षार्थियों की दिक्कतें बढ़ सकती हैं। इस बारे में आयोग सचिव शुभम चौधरी से संपर्क किया पर उन्होंने फोन नहीं उठाया।

यह बताई हैं विसंगतियां
-प्रथम प्रश्न पत्र में कहानियां शामिल की गई हैं। इनमें राजस्थानी लेखक विजयदान देथा की कहानी 'उजाले के उल्लू भी शामिल है। वास्तव में इस शीर्षक से उनकी कोई कहानी नहीं है। देथा ने ' उजाले के मुसाहिब कहानी लिखी है। जबकि उजाले का उल्लू कहानी डॉ. महीप सिंह ने लिखी है।
-पाठ्यक्रम में वर्तनी की अशुद्धियां भी बताई गई है
-राजस्थानी की प्रमुख बोलियों में मारवाड़ी के आगे कोष्ठक में शेखावाटी लिखा गया है, यह भ्रामक है। -अव्यय के दो भेदों का उल्लेख, शेष को छोड़ दिया गया है।
-पृथ्वीराज रासो के पद्मावती समय को पाठ्यक्रम में शामिल किया है। इसके संपादक का उल्लेख नहीं है। मीरा पदावली के संपादक नरोत्तमदास स्वामी नहीं है। उनकी संपादित पुस्तक का नाम मीरां मुक्तावली है। नरोत्तम भी अशुद्ध (नरोत्त्म) लिखा है।


पाठ्यक्रम में बताई गई विसंगतियां तार्किक हैं। बिज्जी ने उजाले के मुसाहिब कहानी लिखी है। अव्यय के चार भेद होते हैं। मारवाड़ी भाषा जोधपुर, जैसलमेर, बीकानेर और आसपास की है। शेखावटी की भाषा थोड़ी खड़ी है। आयोग स्तर पर इन्हें जांचना चाहिए।
डॉ. नवल किशोर भाभड़ा, पूर्व आयुक्त और हिंदी विभागाध्यक्ष जीसीए

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned