RPSC: दिवाली बाद फिर शुरू होगा साक्षात्कार का दौर

आयोग जारी कर चुका है कार्यक्रम । तिथि के अनुरूप आयोग ने समूह अनुदेशक/सर्वेयर/सहायक शिक्षुता सलाहकार साक्षात्कार पत्र वेबसाइट पर अपलोड कर दिए।

By: raktim tiwari

Updated: 15 Nov 2020, 05:22 PM IST

अजमेर. राजस्थान लोक सेवा आयोग में दिवाली के बाद फिर साक्षात्कार का दौर शुरू होगा। आयोग इनकी तिथियां जारी कर चुका है। आयोग ने समूह अनुदेशक/सर्वेयर-सहायक शिक्षुता सलाहकार के साक्षात्कार पत्र अपलोड कर दिए हैं।

सचिव शुभम चौधरी ने बताया कि समूह अनुदेशक/सर्वेयर/सहायक शिक्षुता सलाहकार (प्राविधिक शिक्षा विभाग) के 34 पदों के लिए 18 से 20 नवंबर तक साक्षात्कार कराए जाएंगे। उपाचार्य/अधीक्षक (औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान) प्राविधिक शिक्षा विभाग के 86 पद पदों के लिए 23 नवंबर से 4 दिसंबर तक साक्षात्कार कराए जाएंगे। साक्षात्कार के दौरान अभ्यर्थियों को सभी मूल प्रमाण पत्र और उनकी फोटो प्रति साथ लानी जरूरी होगी। तिथि के अनुरूप आयोग ने समूह अनुदेशक/सर्वेयर/सहायक शिक्षुता सलाहकार साक्षात्कार पत्र वेबसाइट पर अपलोड कर दिए।

आरएएस के साक्षात्कार 7 दिसंबर से
आरएएस एवं अधीनस्थ सेवा भर्ती-2018 के प्रथम चरण के साक्षात्कार 7 दिसंबर से प्रारंभ होंगे। इसमें 1170 अभ्यर्थी शामिल होंगे। इनके साक्षात्कार 13 जनवरी तक चलेंगे। बकाया अभ्यर्थियों का साक्षात्कार कार्यक्रम भी जल्द जारी किया जाएगा। अभ्यर्थियों को कोविड-19 से जुड़े निर्देशों की पालना करनी जरूरी होगी। मालूम हो कि आरएएस एवं अधीनस्थ सेवा के 1051 पदों पर भर्ती होगी। आयोग ने मुख्य परीक्षा में 2010 अभ्यर्थियों को पास किया है।

दीपोत्सव की रोशनी से जगमगाए घर-आंगन

अजमेर. दिवाली पर घर-आंगन दीपोत्सव की रोशनी से जगमगा उठे। शहरवासियों ने उल्लास के साथ मंत्रोच्चार के बीच महालक्ष्मी का पूजन किया। घरों और मंदिरों के बाहर महिलाओं ने गोवद्र्धन पूजा की। सुबह से देर शाम तक दिवाली की शुभकामनाओं का दौर चला। सोमवार को भैया दूज पर बहनें अपने भाइयों को तिलक कर उनकी लम्बी उम्र की दुआ मांगेंगी।
शनिवार को शहरवासियों ने विधि-विधान से धन और ऐश्वर्य की देवी महालक्ष्मी का पूजन किया। महिलाओं ने घरों में मांडणे, अल्पना और रंगोली सजाई। मिठाई और अन्य पकवान बनाए गए। गन्ना, लक्ष्मी पाना, खील-फूले, बताशे, कमल के फूल, सीताफल और अन्य सामग्री के साथ घरों, व्यापारिक प्रतिष्ठानों में महालक्ष्मी, गणेश और विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की गई।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned