RPSC: 39 पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू

सामान्य वर्ग, आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग, राजस्थान के क्रीमीलेयर में शामिल ओबीसी-एमबीसी वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 350 रुपए शुल्क रखा गया है।

By: raktim tiwari

Updated: 29 Nov 2020, 11:44 AM IST

अजमेर.

राजस्थान लोक सेवा आयोग ने तकनीकी शिक्षा विभाग में सात विषयों के प्रवक्ताओं की भर्ती के लिए आवेदन मांगे हैं। अभ्यर्थी 27 दिसंबर को रात्रि 12 बजे तक ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे।

तकनीकी शिक्षा विभाग में सात विषयों में प्रवक्ताओं के 39 पदों पर भर्ती होनी है। इनमें सिविल के 12, मैकेनिकल के 8, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के 5, फिजिक्स के 3, अंग्रेजी के 2, केमिस्ट्री के 5 और गणित के 4 पद शामिल हैं। अभ्यर्थी शनिवार से ऑनलाइन फॉर्म भरने में जुट गए।

आयोग सचिव शुभम चौधरी ने बताया कि सामान्य वर्ग, आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग, राजस्थान के क्रीमीलेयर में शामिल ओबीसी-एमबीसी वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 350 रुपए शुल्क रखा गया है। नॉन क्रीमीलेयर ओबीसी और एमबीसी वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 250 रुपए आवेदन रखा गया है। नि:शक्तजन, एससी, एसटी वर्ग और 2.5 लाख रुपए सालाना आय वाले अभ्यर्थियों के लिए 150 रुपए आवेदन शुल्क रखा गया है। परीक्षा आयोजन तिथि और अन्य जानकारी शीघ्र वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।

ऑनलाइन आवेदन जारी

कॉलेज शिक्षा शिक्षा विभाग में 918 सहायक आचार्यों की भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन जारी हैं। अभ्यर्थी 8 दिसंबर को रात्रि 12 बजे तक आवेदन कर सकेंगे। इसके तहत बॉटनी, गणित, जूलॉजी, होम साइंस, इतिहास, भूगोल, जियोलॉजी, केमिस्ट्री, फिजिक्स, एबीएसटी, बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन, ड्राइंग एंड पेंटिंग, अंग्रेजी, हिंदी, सोशोलॉजी, म्यूजिक (वोकल), फिलोसॉफी, राजनीति विज्ञान, संस्कृत, लॉ, उर्दू और अन्य विषय शामिल है।

आरपीएससी चेयरमेन की पत्नी करेंगी अजमेर में ये खास काम...


रक्तिम तिवारी/अजमेर. शहर के सार्वजनिक पुस्तकालय को अनुभवी शिक्षाविद् का लाभ मिल सकता है। राजस्थान लोक सेवा आयोग अध्यक्ष डॉ. भूपेंद्र यादव ने अपनी पत्नी को पुस्तकालय के लिए अच्छी किताबों का संकलन करने और इसे बेहतर बनाने को कहा है। इससे शहरवासियों, विद्यार्थियों, अधिकारियों और कर्मचारियों सहित आगंतुकों को अच्छी किताबें पढऩे का मौका मिलेगा।

तोपदड़ा में सार्वजनिक पुस्तकालय बना हुआ है। यहां नियमित पत्र-पत्रिकाएं मंगवनाने के अलावा कई विषयों और लेखकों की पुस्तकें ही रखी गई हैं। मौजूदा वक्त लाइब्रेरी का स्वरूप वैसा नहीं है, जिस तरह राज्य सचिवालय, कॉलेज, विश्वविद्यालय और अन्य शैक्षिक-सरकारी महकमों में होता है। ऐसा तब है जबकि अजमेर राज्य का शैक्षिक हब कहा जाता है। यहां रेलवे, बैंक, आरएएस-पुलिस और अन्य भर्ती परीक्षाओं के आयोजन होते हैं। सरकारी-निजी स्कूल-कॉलेज में हजारों विद्यार्थी पढ़ते हैं। विशेषज्ञों की आवाजाही होती है।

raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned