3 महीने से नहीं मिली पगार, शिक्षक आर्थिक तंगी का शिकार

शिक्षा विभाग की लापरवाही से कोरोना काल में बिगड़ रहे हालात

ग्राम पंचायत सिलावट के आधा दर्जन राजकीय विद्यालयों के शिक्षकों ने मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर 3 माह से लंबित उनके वेतन भुगतान की मांग की है। अब तक उन्हें वेतन न मिलने से उनके और उनके परिवारों के समक्ष विषम हालात पैदा होने लगे हैं।

By: Dilip

Published: 12 Jun 2021, 01:09 AM IST

राजाखेड़ा. ग्राम पंचायत सिलावट के आधा दर्जन राजकीय विद्यालयों के शिक्षकों ने मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर 3 माह से लंबित उनके वेतन भुगतान की मांग की है। अब तक उन्हें वेतन न मिलने से उनके और उनके परिवारों के समक्ष विषम हालात पैदा होने लगे हैं। यहां व्याख्याता नहीं होने से वेतन आहरण के अधिकार नहीं है। इस वजह से पूरी पंचायत के विभिन्न विद्यालयों के शिक्षक कर्मचारियों को मार्च, अप्रेल एवं मई माह का वेतन नहीं मिल पाया है।

क्या है मामला

उपखंड की ग्राम पंचायत सिलावट के अधीन आने वाले छह विद्यालयों के शिक्षक कर्मचारियों को बीते तीन माह से वेतन नहीं दिए जाने से शिक्षक परिवारों को आर्थिक तंगी का शिकार होना पड़ रहा है। पैसे के अभाव में उन सभी के कई आवश्यक कार्य नहीं हो पा रहे व परिवारों का आर्थिक बजट गड़बड़ा गया है। मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी से भी कई बार आग्रह के बावजूद सुनवाई नहीं हुई। शिक्षकों में विभागीय कार्यप्रणाली को लेकर आक्रोश है।

क्या है कारण

ग्राम पंचायत के विभिन्न स्कूलों के शिक्षकों ने बताया कि राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सिलावट के प्रधानाचार्य एवं पदेन पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी श्याम प्रकाश वर्मा का 27 अप्रेल को निधन हो जाने के बाद प्रधानाचार्य का पद रिक्त हो गया है। व्याख्याता नहीं होने से वेतन आहरण के अधिकार नहीं है। इस वजह से पूरी पंचायत के विभिन्न विद्यालयों के शिक्षक कर्मचारियों को मार्च, अप्रेल एवं मई माह का वेतन नहीं मिल पाया है। कोरोना संक्रमणके दौर में घरेलू बजट बिगड़ता जा रहा है। शिक्षकों ने मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर किसी अन्य ग्राम पंचायत के प्रधानाचार्य अथवा मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी राजाखेड़ा को वित्तीय शक्तियां देने की मांग की है, जिससे ग्राम पंचायत सिलावट के शिक्षकों के लंबित 3 माह के वेतन भुगतान कराने का आग्रह किया है।
इन विद्यालयों के शिक्षक वेतन से हैं वंचित

राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय नदौरा,राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय शेखपुर सिलावट,राजकीय प्राथमिक विद्यालय पूूठ, राजकीय प्राथमिक विद्यालय जगमोहन का पुरा,राजकीय प्राथमिक विद्यालय सिद्दापुरा, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सिलावट.

इनका कहना है
बीते तीन महीने से वेतन नहीं मिलने से घर चलाने में मुश्किलें आ रही हैं। सीबीईओ से कई बार मिलकर वेतन भुगतान का आग्रह किया, लेकिन उनकी ओर से कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। सरकार मुफ्त राशन भी नहीं देती, अन्यथा काम चला लेते।

सुभाष शर्मा, अध्यापक, यूपीएस नदौरा।
इनका कहना है

शिक्षकों को नियमित वेतन भुगतान मिलना चाहिए। अगर किसी प्रधानाचार्य का पद रिक्त है तो नजदीकी स्कूल के किसी भी प्रधानाचार्य या खुद सीबीईओ वेतन आहरण कर सकते हैं। इस संबंध में सीडीईओ से मिलकर वेतन भुगतान की कार्यवाही कराएंगे।
राजेश शर्मा, जिलाध्यक्ष, राजस्थान शिक्षक एवं पंचायती राज कर्मचारी संघ, धौलपुर।

इनका कहना है
अन्य विद्यालय के प्रधानाचार्य को डीडी पावर देने के लिए उच्चधिकारियों को पत्र लिखा है। शायद जल्द आदेश आ जाएं।

रामवीर सिंह , मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, राजाखेड़ा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned