नई होटल में शानदार खाना खिलाऊंगा, स्कूल से यह लालच देकर बालक को ले गया और खदान में धकेल कर दी हत्या

स्कूल जाकर बालक को ले गया आरोपी, मृतक बालक के पिता से कोई रंजिश थी जो आरोपी की,इसलिए बेटे की कर दी हत्या, सीसीटीवी फुटेज खंगालने पर बालक को स्कूटी पर ले जाता दिखा आरोपी

By: suresh bharti

Published: 06 Mar 2021, 12:13 AM IST

खेतड़ी(झुंझुनूं). इस मासूम का आखिर कसूर क्या था जो उसे मौत के घाट उतार दिया। उसने तो अभी ठीक से दुनिया भी नहीं देखी थी। प्यार,रंजिश,लड़ाई और प्रतिशोध क्या होता है। यह उसे पता नहीं। वह तो परिचित अंकल के झांसे में आ गया। इसकी कीमत उसे मौत के रूप में चुकानी पड़ी। झुंझुनूं जिले के बबाई गांव में एक युवक ने बालक की हत्या करने के पीछे जो तरीका चुना। उसे जानकर हर किसी के रौंगटे खड़े हो गए।

आरोपी युवक मृतक बालक के पिता से किसी मामले को लेकर रंजिश रखता था। इसका बदला उसने बेटे की हत्या कर लिया। इससे पहले वह बालक के स्कूल गया और होटल में अच्छा खाना खिलाने का झांसा दिया। इसी लालच में बालक आरोपी युवक के साथ स्कूटी पर बैठ गया। युवक ने उसे पांच किलोमीटर दूर लीज की एक बंद खदान में धकेल दिया। करीब साठ फीट गहरी खदान में बीस फीट पानी भरा था। डूबने से बालक की मौत हो गई। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

पिता ने अपहरण की कराई प्राथमिकी दर्ज

थानाधिकारी सुरेन्द्र सिंह देगड़ा ने बताया कि बबाई निवासी राधेश्याम सोनी का बेटा गौरव (13) राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय की नवीं कक्षा में पढ़ता था। वह विद्यालय से गुरुवार सुबह 11.30 बजे गायब हो गया। इस पर उसके पिता ने अपहरण की आशंका जताते हुए पुलिस में रिपोर्ट दी। गौरव के पिता की बबाई में इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान है। मृतक के तीन भाइयों में गौरव मझला था। इससे छोटा व बड़ा भाई पढ़ रहे हंै।

ऐसे खुला राज

पुलिस टीम ने बबाई में संदिग्ध लोगों से भी पूछताछ की। गांव में लगे सभी सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले। इस दौरान फुटेज में बालक गौरव के साथ मोटरसाइकिल पर बबाई गांव का ही अजय नाई (22) दिखाई दिया। अजय गांव में ही नाई की दुकान चलाता है। पुलिस ने अजय को पकडकऱ कड़ाई से पूछताछ की तो उसने हत्या करना कबूल कर लिया।

अजय से पूछताछ के बाद पुलिस टीम उसे प्रतापपुरा-बैचावाली क्षेत्र में एक बंद खदान पर ले गई। आरोपी ने पुलिस को बताया कि गौरव को उसने धक्का देकर खदान में गिरा दिया। शुक्रवार को गोैताखोरों की मदद से बालक का शव निकाला गया। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजन को सौंप दिया।

पुलिस टीम में यह रहे शामिल

थानाधिकारी सुरेन्द्र सिंह देगड़ा, सहायक उपनिरीक्षक राजेन्द्र कुमार व कैलाशचन्द्र, कांस्टेबल पंकज, दिनेश, संदीप, नेमीचन्द, राजेश चौधरी, राजेश मेघवाल व अशोक कुमार शामिल रहे। सूचना पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र कुमार मीणा ने खेतड़ी पहुंच घटनाथल का जायजा लिया तथा मृतक बालक के परिजन से भी मिले।

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned