बच्चों पर भारी पड़ रही मौसमी बीमारियां

अस्पताल में कम पड़ रहे बेड, एक बेड पर दो से तीन बच्चे भर्ती, निमोनिया, वायरल संक्रमण, डायरिया व डेंगू की मार

By: CP

Published: 12 Sep 2021, 02:15 AM IST

अजमेर. मौसम में बदलाव एवं मौसमी बीमारियों का सर्वाधिक प्रभाव बच्चों में दिखाई दे रहा है। निमोनिया, वायरल संक्रमण की बीमारी ने बच्चों को जकड़ लिया है। मरीजों में इन दिनों सर्वाधिक संख्या बच्चों की है। ऐसे में बच्चों को कोरोना की संभावित तीसरी लहर से महफूज रखने के साथ ही निमोनिया व वायरल संक्रमण से उबारने व इलाज की चुनौती है। हालात ऐसे कि जिला मुख्यालय के सरकारी अस्पताल के बेड खाली नहीं हैं। एक-एक बेड पर दो से तीन बच्चों को भर्ती किया गया है।

रोगी बढ़े, बेड फुल

संभाग मुख्यालय के सबसे बड़े जवाहर लाल नेहरू अस्पताल के शिशु रोग विभाग (चिल्ड्रन डिपार्टमेंट) के लगभग सभी वार्डों में बेड पर मरीज भर्ती हैं। कुछ वार्डों में तो एक बेड पर 2 से 3 शिशुओं को भर्ती कर रखा है। शनिवार को भी बीमार मरीजों की संख्या एकाएक बढ़ गई। दोपहर तक चिल्ड्रन वार्ड की कैज्युल्टी में बीमार मरीजों व परिजन की कतार लगी रही।

सर्वाधिक निमोनिया पीडि़त

शिशु रोग विभाग में सर्वाधिक संख्या निमोनिया पीडि़त बच्चों की है। कई बच्चों को नैबुलाइज करने के साथ ऑक्सीजन भी देनी पड़ रही है। कुछ बच्चों में डेंगू के लक्षण भी मिले हैं। निमोनिया, डायरिया, मलेरिया, डेंगू के मरीज प्रमुख रूप से सामने आए हैं।

अटेंडेंट को भी संक्रमण का खतरा!

शिशु रोग विभाग के वार्डों में पीडि़त बच्चों के साथ परिजन भी घंटों मौजूद रहते हैं। इससे बाहर से वार्ड में संक्रमण पहुंचने का भी खतरा बना रहता है।

फैक्ट फाइल
जेएलएन अस्पताल के शिशु रोग विभाग में बेड क्षमता-175

वर्तमान में भर्ती बच्चे-225

डेंगू पीडि़त-2

निमोनिया-80 से अधिक

डायरिया-40

कार्ड टेस्ट में सैकड़ों, एलाइजा टेस्ट कम

डेंगू के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। अधिकांश मरीजों की डेंगू जांच कार्ड टेस्ट से हुई है। जिसमें डेंगू की पुष्टि हुई है, मगर एलाइजा टेस्ट की रिपोर्टिंग मान्य होने से इसमें बहुत कम केस बताए जा रहे हैं। पिछले तीन दिनों में केकड़ी में 5, ब्यावर में 3 एवं अजमेर में 10 से अधिक मामले आए हैं। चिकित्सा विभाग की रिपोर्ट में 20 से अधिक डेंगू पीडि़त नहीं बताए जा रहे।

डेंगू टेस्ट भी प्रभावित, मशीन में तकनीकी खामी

जेएलएन अस्पताल में डेंगू की जांच इन दिनों प्रभावित है। एलाइजा किट टेस्ट माइक्रोबायोलॉजी लैब में होने हैं लेकिन शनिवार तक लिए गए सैंपल की रिपोर्ट सोमवार तक आने की संभावना बताई गई है।

इनका कहना है

शिशु रोग विभाग में निमोनिया, डायरिया, डेंगू से पीडि़त बच्चे भर्ती हैं। एलाइजा किट जांच में पॉजिटिव की ही रिपोर्टिंग की जा रही है। कार्ड टेस्ट में डेंगू पॉजिटिव आने के बाद भी एलाइजा टेस्ट करवाया जा रहा है। मशीन में तकनीकी खामी के चलते सोमवार तक सैंपल की जांच रिपोर्ट आ जाएगी।

डॉ.अनिल जैन

अधीक्षक, जेएलएन अस्पताल अजमेर

CP Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned