#sehatsudharosarkar -अस्पतालों की ऐसी हालत जिसे देख आपको भी आएगा तरस, देखें इलाज के नाम पर किस तरह हो रहा है मजाक

CP L. Joshi

Publish: Sep, 16 2017 09:00:47 (IST)

Ajmer, Rajasthan, India
 #sehatsudharosarkar -अस्पतालों की ऐसी हालत जिसे देख आपको भी आएगा तरस, देखें इलाज के नाम पर किस तरह  हो रहा है मजाक

आमजन को बेहतर चिकित्सा सुविधा का दावा करने वाली सरकार के अस्पतालों में कई जगह उपकरण ही पूरे नहीं है,

अजमेर. आमजन को बेहतर चिकित्सा सुविधा का दावा करने वाली सरकार के अस्पतालों में कई जगह उपकरण ही पूरे नहीं है, कहीं ब्लड स्टोरेज यूनिट शुरू किया तो ऑपरेशन के अभाव में ब्लड काम नहीं आ रहा है। मेडिकल कॉलेज के ब्लड बैंक में नेगेटिव ग्रुप के ब्लड की कमी है, एबी नेगेटिव एवं बी नेगेटिव के 3-3 यूनिट ही उपलब्ध हैं। यहां एलाइजा मशीन खराब है, रेपिड टेस्ट से ही डेंगू जांच हो रही है। जिले के एक राजकीय अस्पताल में ऑपरेटिंग माइक्रो स्कॉप, ईएफआर इन्हेंलाइजर नहीं है। कहीं ब्लड स्टोरेज यूनिट है तो वहां संग्रहित ब्लड काम ही नहीं आ रहा है। कुछ जगह तो ब्लड की दलाली में युवक लिफ्त हैं।

जेएलएन अस्पताल के ब्लड बैंक में ब्लड की उपलब्धता

 

ब्लड ग्रुप यूनिट संग्रहित

ए 120

ओ 130

बी 60
एबी 28

ओ नेगेटिव 20एबी नेगेटिव 3बी नेगेटिव 3ए नेगेटिव 10सीटीवीएस में करोड़ों के उपकरण फांक रहे धूलजवाहर लाल नेहरू अस्पताल के कार्डियोथौरेसिक विभाग में करोड़ों रुपए के उपकरण धूल फांक रहे हैं। सरकार की ओर से पीपीपी मोड पर शुरू किए गए सीटीवीएस बंद होने से उपकरण एवं मशीनरी काम नहीं आ रही है। हाल ही एक चिकित्सक की नियुक्ति से फिर आस बंधी है। आपातकालीन एक्सरे मशीन कक्ष में भी एसी खराब होने से आए दिन एक्सरे मशीन खराब हो जाती है। उधर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की रामगंज डिस्पेंसरी में भी निर्धारित 15 तरह की जांचें हो रही है लेकिन एलाइजा किट आदि उपलब्ध नहीं है। मदारगेट स्थित कस्तूरबा अस्पताल में भी जांच संबंधी उपकरण तो उपलब्ध है लेकिन कुछ उपकरण आज भी काम नहीं आ रहे हैं।

 

ब्लड स्टोरेज यूनिट में नहीं आता ब्लड काम में

पुष्कर. सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पुष्कर में कहने को ब्लड स्टोरेज यूनिट हैं। अजमेर ब्लड बैंक से यहां 10 यूनिट ब्लड लाकर संग्रहित किया जाता है, मगर महीनेभर में काम में नहीं आता है। यहां एक सर्जन हैं लेकिन 10 दिन नसबंदी कैंप में ड्यूटी से ऑपरेशन कम होते हैं। एनिस्थिसिया चिकित्सक के अभाव में मेजर सर्जरी नहीं होती है, इसके कारण ब्लड काम में नहीं आता है, फिर इसे अजमेर भेज दिया जाता है।

उपकरणों की यहां दरकार है।


जांच मशीन व उपकरण की कमीनसीराबाद. राजकीय सामान्य चिकित्सालय नसीराबाद में जांचों की सुविधा तो उपलब्ध है मगर अभी भी कुछ उपकरण की कमी है। यहां ऑपरेटिंग माइक्रो स्कॉप, ईएफआर इन्हेलाइजर, बायो केमेस्ट्री कुली ऑटोइनेलाइजर नहीं है। अस्पताल में लैब संबंधी उपकरण पर्याप्त हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned