स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट: द्विव्यांगों की अनदेखी, केन्द्रीय मंत्री व सीएम को भेजा शिकायत

कहीं रैम्प नहीं तो कही सीढिय़ों की उंचाई अधिक
राजस्थान महिला कल्याण मंडल

By: bhupendra singh

Published: 19 Sep 2021, 08:25 PM IST

अजमेर. स्मार्ट सिटी अजमेर में करोड़ों रूपए खर्च के तहत किए जा रहे निर्माण कार्यों में नियम कायदों की अनदेखी व गुणवत्ता से किए जा रहे समझौता के साथ ही प्रोजेक्टों में द्विव्यांगों की भी अनदेखी की रही है। राजस्थान महिला कल्याण मंडल के निदेशक राकेश कुमार कौशिक ने बताया कि संस्था द्वारा केन्द्रीय मंत्री, मुख्यमंत्री, स्वायत्त शासन मंत्री, मुख्य सचिव तथा जिला कलक्टर को शिकायत दी है कि वर्तमान में स्मार्ट सिटी के अन्तर्गत निर्माण कार्य दिव्यांगजन के लिए सुगम्य एवं बाधा रहित मापदंडों के अनुरूप नहीं किए जा रहे है। कौशिक ने स्मार्ट सिटी के कार्यो क मापदंडों के अनुसार कार्य करने की मांग की। कौशिक ने बताया कि शिकायतों के बाद अब कार्रवाई अमल मे लाई जा रही है। एजेन्सी एवं सम्बन्धित विभागों को पत्र प्रेषित कर समस्त कार्यों को दिव्यांगजन हेतु सुगम्य एवं बाधा रहित आवागमन के लिए रेम्प एवं रैलिंग ,हैंडरेल्स, आवश्यकतानुसाार साइन बोर्ड, दृष्टिबाधित दिव्यांगजन के आवागमन हेतु उपयुक्त प्रावधानए डिसेबल्ड फ्रें डली शौचालय के साथ समस्त निर्माण कार्यों के डिजाइन एवं प्रावधान दिव्यांगजन के लिए सुगम्य एवं बाधा रहित वातावरण के मापदंडों के अनुसार बनाने के लिए निर्देशित किया गया है।
सभी को होगी सुविधा

कौशिक ने बताया कि संस्था के इस प्रयास से न केवल अजमेर के दिव्यांगजन बल्कि वृद्धजन,गर्भवती महिलाओं, बच्चों,अस्वस्थ व्यक्तियों, अस्थाई दिव्यांगजनों एवं पर्यटकों को भी लाभ मिलेगा। कार्य अब दिव्यांगजन के लिए सुगम्य एवं बाधा रहित होंगे।

read more: घोषणा तो हुई लेकिन,बिना भवन व कर्मचारियों के कागजों में ही चल रही तहसीलें

Show More
bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned