सावधान! खुराक की तलाश में भटक रहे हैं सांप, प्लीज इनको मारिए मत...

इंसान के लिए तो बारह माह मनमाफिक होते हैं,लेकिन जीव-जंतुओं के लिए अलग-अलग महीने मुफीद रहते हैं,इनमें सांपों की कई प्रजातियां खासकर बारिश के समय सक्रिय रहती है। शहरी और ग्रामीण क्षेत्र में इन दिनों तेजी से निकल रहे हैं सांप

By: suresh bharti

Updated: 26 Aug 2020, 01:16 AM IST

ajmer अजमेर. बारिश के समय कई जीव-जंतु सक्रिय रहते हैं। इनमें सांप भी शामिल है। सांप के बिलों में पानी घुसने से भी यह बाहर निकल आते हैं जो अपनी खुराक की तलाश में भटकते रहते हैं। इन दिनों शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में सांप निकल रहे हैं। जीव-जंतु पे्रमियों का कहना है कि हमें किसी को मारने का हक नहीं है। प्रकृति ने इन जीव जंतुओं को पैदा किया है तो इन्हें जीने का हक मिलना चाहिए।

सर्पदंश के कई मामले बढ़े

मौसम ऋतु एवं जीव-जंतुओं का बरसों पुराना नाता है। खासतौर पर बारिश के मौसम में जहरीले और साधारण जीव-जंतु वन्य और रिहायशी इलाकों में ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं। इनमें जहरीले और साधारण सांप भी शामिल हैं।

शहर और जिले के कई हिस्सों में घर-दफ्तरों और अन्य इलाकों में कई प्रजातियों के सांप निकल रहे हैं। सर्पदंश के मामले भी इस दौरान ज्यादा हो रहे हैं। बरसात के मौसम में कीड़े-मकोड़े, मच्छरों के अलावा कई प्रजातियों के जीव-जंतु ज्यादा निकल रहे हैं। इनमें सांपों की तादाद ज्यादा है।

पिछले दो महीनों में कई घरों, दफ्तरों अन्य इलाकों में जहरीले और साधारण सांप निकले हैं। इन्हें सर्पमित्र और वन्य जीव विशेषज्ञों ने रेस्क्यू कर जंगलों में छोड़ा जा रहा है।

कोबरा-वाइपर को पकड़ा

अजमेर शहर में सॉ स्केल्ड, स्पेक्टिकल कोबरा जैसे जहरीले-खतरनाक सांप पकड़े जा चुके हैं। सर्पमित्र विजय यादव ने शहर के कोटड़ा, न्यू केसरी कॉलोनी, पंचशील, महर्षि दयानंद कॉलोनी नाका मदार, आदर्श नगर, तोपदड़ा, अम्बाबाड़ी और अन्य इलाकों में सांप पकड़े हैं। इनके अलावा साधारण सांप भी पकड़े हैं।

भोजन के लिए मुफीद मौसम

सांप शीतकाल में निष्क्रिय और अत्यधिक ठंड के चलते खुद को बचाते हैं। मार्च-अप्रेल से सितंबर-अक्टूबर तक गर्मी और वर्षा ऋतु इनके लिए मुफीद होती है। इसमें यह प्रचुर मात्रा में भोजन तलाशते-करते रहते हैं। इन्हें मेंढक और अन्य जंतुओं के रूप में अपनी खुराक आराम से मिलती है।

प्रो. सुभाष चंद्र, जूलॉजी विभागाध्यक्ष एमडीएस विश्वविद्यालय

छेडऩे पर होते हैं उग्र

बिलों में पानी भरने के चलते वर्षा ऋतु में सांप बाहर निकलते हैं। विपरीत मौसम के चलते प्राय: यह खुद को बचाने के जतन में रहते हैं, लेकिन मानवीय हलचल या छेडऩे पर हमला बी करते हैं। सर्पदंश के ज्यादा मामले इसीलिए होते हैं।

डॉ. रीना व्यास मिश्रा, जूलॉजी विभागाध्यक्ष एसपीसी-जीसीए

suresh bharti Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned